उन्होंने कहा है कि वर्ष 2021 का बजट असाधारण परिस्थितियों के बीच पेश किया गया है. इसमें यथार्थ का एहसास भी और विकास का विश्वास भी है. उन्होंने कहा कि देश में कृषि क्षेत्र को मजबूती देने के लिए, किसानों की आय बढ़ाने के लिए बहुत जोर दिया गया है. किसानों को आसानी से और ज्यादा ऋण मिल सकेगा. देश की मंडियों को और मजबूत करने के लिए प्रावधान किया गया है. ये सब निर्णय दिखाते हैं कि इस बजट के दिल में गांव हैं, हमारे किसान हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के चलते कई एक्सपर्ट ये मानकर चल रहे थे कि सरकार आम नागरिकों पर बोझ बढ़ाएगी। लेकिन Fiscal sustainability के प्रति अपने दायित्वों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने बजट का साइज बढ़ाने पर जोर दिया है. उन्होंने आगे कहा, चुनौतियों के बावजूद हमारी सरकार ने बजट को ट्रांसपेरेंट बनाने पर ज़ोर दिया है. पीएम मोदी ने कहा कि इस बजट में जान भी और जहान भी पर जोर दिया गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बार के बजट में दक्षिण से लेकर उत्तर और पूर्व के सभी राज्यों पर जोर दिया गया, समुद्र से लगे राज्यों को इकॉनोमिक रूप से मजबूत करने का फैसला किया गया है. बजट में ऐसे कई फैसले लिए गए हैं, जिनसे रोजगार देने वाले अवसर पैदा किए गए हैं और किसानों की आय बढ़ाने में मदद की जाएगी. इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के इस शानदार बजट के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और उनकी टीम को बधाई दी है.

बता दें कि निर्मला सीतारमण ने बतौर वित्त मंत्री इस साल तीसरी बार संसद में बजट पेश किया है. इस साल उन्होंने मेड इन इंडिया ‘टैबलेट’ से बजट पढ़ कर सुनाया है, जो पूरी तरह से पेपरलेस था. इससे पहले निर्मला सीतारमण ने साल 2019 में अपने पहले बजट में चमड़े के पारंपरिक ब्रीफकेस को बदला था और लाल कपड़े में लिपटे ‘बही-खाते’ के रूप में बजट दस्तावेजों को पेश किया था. वहीं इस बार उन्होंने डिजीटल तौर पर बजट पेश किया है.

Budget 2021 Announcement : जानिए आम बजट 2021-2022 की 10 बड़ी बातें, वित्त मंत्री निर्मला सितारमण ने किए बड़े ऐलान

Budget 2021 Announcement : इनकम टैक्स स्लैब में नहीं आया कोई बदलाव, सीनियर सिटीजन को मिली बड़ी राहत

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर