नई दिल्ली। बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा का पेपर परीक्षा से पहले ही लीक हो गया था. विभिन्न टेलीग्राम समूहों पर प्रश्न पत्र परीक्षा से कुछ मिनट पहले वायरल हो गए थे. परीक्षा समाप्त होने के बाद, वायरल प्रश्न पत्र का मूल प्रश्न पत्र से मिलान किया जाता है. इसके पहले आरा के वीर कुंवर सिंह कॉलेज परीक्षा केंद्र पर पेपर लीक के आरोप में सैकड़ों अभ्यर्थियों ने हंगामा किया. उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ उम्मीदवारों को मोबाइल लेकर परीक्षा केंद्र के अंदर जाने दिया गया. समय से पहले ही उनके प्रश्न पत्र लीक हो गए और एक विशेष कमरे में बैठकर परीक्षा ली गई. जबकि अन्य परीक्षार्थियों को प्रश्नपत्र देरी से दिए गए. बीपीएससी ने मामले में जांच कमेटी गठित कर 24 घंटे के अंदर अपनी रिपोर्ट देने को कहा है.

बताया जा रहा है कि बीपीएससी प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नपत्र रविवार को संपन्न हुई परीक्षा से चंद मिनट पहले ही विभिन्न टेलीग्राम ग्रुप पर वायरल हो गए थे. वायरल हो रहे इन प्रश्न पत्रों का परीक्षा के बाद परीक्षार्थियों के मूल प्रश्न पत्र से मिलान हो गए. राष्ट्रीय छात्र एकता मंच के अध्यक्ष दिलीप कुमार ने परीक्षा शुरू होने से करीब 10 मिनट पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भेजे ई-मेल में वायरल प्रश्नपत्र की कॉपी देकर परीक्षा रद्द करने की मांग की है.

बिहार लोक सेवा आयोग के संयुक्त सचिव और परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने कहा कि उन्हें टीवी चैनलों पर प्रसारित सूचना से पेपर लीक होने की जानकारी मिली. इस मामले में आयोग के अध्यक्ष आरके महाजन ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन कर 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है. इसके बाद आयोग फैसला लेगा.

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर