नई दिल्लीः नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और UPA अध्यक्ष सोनिया गांधी को दिल्ली हाईकोर्ट से झटका लगा है. उनके आयकर दस्तावेजों की दोबारा जांच पर रोक लगाने वाली याचिका को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा कि आयकर विभाग को टैक्स प्रक्रिया की दोबारा जांच करने का पूरा अधिकार है. इसकी शिकायत के लिए वह विभाग के पास जा सकते हैं. दूसरी ओर बीजेपी इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस पर हमलावर हो गई. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया कि कांग्रेस ने सोमवार को जान-बूझकर भारत बंद बुलाया था क्योंकि उन्हें पता था कि उसी दिन नेशनल हेराल्ड मामले में सुनवाई का नतीजा आना था.

बीजेपी ने कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया गांधी और राहुल गांधी जमानत पर हैं. इस केस में कांग्रेस का पर्दाफाश हो गया है क्योंकि अदालत ने राहुल गांधी और सोनिया गांधी की याचिका खारिज कर दी है. संबित पात्रा ने कहा, ‘दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस का पर्दाफाश कर दिया है कि किस प्रकार गांधी परिवार के लोग देश की आंखों में धूल झोंककर गरीब जनता की कमाई को लूट रहे थे. गांधी परिवार को आज धोखाधड़ी करने वाले, टैक्स चोरी करने वाले और भ्रष्ट नेताओं के रूप में जाना जाता है.’

संबित पात्रा ने आगे कहा, ‘नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने देश के कानून को दरकिनार करके देश की जनता के पांच हजार करोड़ रुपये का गबन किया. इस मामले में सोनिया और राहुल गांधी 50 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत पर हैं.’ संबित पात्रा ने गांधी परिवार पर आरोप लगाया कि नेशनल हेराल्ड से जुड़े यंग इंडिया मामले में 2011-12 में इनकम टैक्स का मूल्यांकन 60 लाख रुपये दिखाया गया था जबकि इसके दोबारा मूल्यांकन में यह 154 करोड़ रुपये हो गया था. आयकर विभाग ने गांधी परिवार को 249 करोड़ रुपये का नोटिस भेजा था.

नेशनल हेराल्ड मामले में हाई कोर्ट ने रद्द की सोनिया और राहुल गांधी की याचिका

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App