नई दिल्ली. चीन ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (यूएनएससी) में वीटो लगाकर जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से बचा लिया है. ऐसा चौथी बार हुआ, जब पूरी दुनिया मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर एकजुट थी, लेकिन चीन ने नरेंद्र मोदी सरकार की कोशिशों पर पानी फेर दिया. इसके बाद कांग्रेस चीफ राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी की विदेश नीतियों पर सवाल उठाते हुए तंज कसा. ट्वीट कर राहुल ने लिखा कि पीएम चीन के आगे कमजोर साबित हुए और राष्ट्रपति शी चिनफिंग के खिलाफ कुछ बोल नहीं पा रहे हैं.

राहुल के इस हमले का बीजेपी ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया है. ट्वीट कर भाजपा ने लिखा, चीन यूएनएससी में नहीं होता, अगर तुम्हारे (राहुल गांधी) परदादा ने उन्हें भारत के बदले सीट ‘गिफ्ट’ नहीं की होती. भारत तुम्हारे परिवार की गलतियों की सजा भुगत रहा है. आश्वस्त रहें कि भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जरूर जीतेगा. इसे पीएम नरेंद्र मोदी पर छोड़ दें. आप खुद गुप-चुप चीनी अधिकारियों से हाथ मिलाते हैं.

कई रिपोर्ट्स में कहा जाता है कि साल 1953 में अमेरिका ने भारत को यूएनएससी की सीट ऑफर की थी, जिसे पंडित नेहरू ने ठुकरा दिया था. नेहरू ने कहा था कि सुरक्षा परिषद् की सीट चीन को दी जाए. चीन इसका फायदा उठाकर कई मामलों में वीटो का इस्तेमाल करके भारत की राह में अड़ंगा अड़ाता रहा है. अगर चीन वीटो का इस्तेमाल नहीं करता तो अजहर पर कई प्रतिबंध लग जाते और विदेशों में उसकी संपत्ति जब्त हो जाती. हालांकि इसकी अटकलें थीं कि चीन एक बार भी भारत की कोशिशों पर पानी फेर सकता है और हुआ भी यही.

Sushma Swaraj On Masood Azhar: सुषमा स्वराज का बड़ा बयान, बोलीं- आतंक और बातचीत साथ-साथ नहीं, इमरान खान भारत को सौंपे मसूद अजहर

Rahul Gandhi Attacks PM Narendra Modi: राहुल गांधी का आरोप- कमजोर पीएम नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति शी चिंनफिंग से डरे हुए हैं, मसूद अजहर को बचा रहा चीन और वो एक शब्द नहीं बोलते

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App