नई दिल्ली. सत्तारूढ़ भाजपा ने वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान चेक और ऑनलाइन भुगतान के माध्यम से दान में 700 करोड़ रुपये से अधिक प्राप्त करने का खुलासा किया है. जिसमें टाटा ट्रस्ट द्वारा प्रबंधित इलेक्टोरल ट्रस्ट ने आधे पैसे का योगदान दिया. टाटा द्वारा नियंत्रित प्रगतिशील चुनावी ट्रस्ट ने दान में 356 करोड़ रुपये, जबकि प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट – भारत का सबसे अमीर ट्रस्ट ने 54.25 करोड़ रुपये दिए हैं. भाजपा ने जो जानकारी चुनाव आयोग को दी है उसके अनुसार ये दान राशि प्राप्त हुई है. प्रूडेंट ट्रस्ट को भारती ग्रुप, हीरो मोटोकॉर्प, जुबिलेंट फूडवर्क्स, ओरिएंट सीमेंट, डीएलएफ, जेके टायर्स सहित शीर्ष कॉर्पोरेट घरानों का समर्थन प्राप्त है.

सूचना रुपये के दान से संबंधित है. 20,000 और इसके बाद का चेक या ऑनलाइन भुगतान के माध्यम से पार्टी द्वारा प्राप्त किया गया था. चुनावी बांड के रूप में प्राप्त दान फाइलिंग में शामिल नहीं थे. भाजपा को व्यक्तियों, कंपनियों और साथ ही चुनावी ट्रस्टों से दान मिला है. चुनाव संहिता के अनुसार, राजनीतिक दलों को वित्तीय वर्ष में मिलने वाले सभी दान का खुलासा करना अनिवार्य है. वर्तमान में, राजनीतिक दलों को रुपये से कम देने वाले व्यक्तियों और संगठनों के नामों की घोषणा करने की आवश्यकता नहीं है. 20,000 जो न ही चुनावी बांड के माध्यम से दान करते हैं.

गैर सरकारी संगठन एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने इस महीने के शुरू में कहा था कि इस साल अप्रैल-मई में आम चुनावों के बाद से 277 करोड़ रुपये के इलेक्टोरल बॉन्ड बेचे गए हैं. संगठन ने कहा कि मार्च 2018 से अब तक बेचे गए चुनावी बांड की कीमत 6,128 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है. चुनावी बांड मौद्रिक उपकरण हैं जो नागरिक या कॉर्पोरेट समूह भारतीय स्टेट बैंक से खरीद सकते हैं और एक राजनीतिक पार्टी को दे सकते हैं, जो तब उन्हें पैसे के एवज में स्वतंत्र है.इस योजना को जनवरी 2018 में पेश किया गया था.

Also read, ये भी पढ़ें: Sanjay Raut Admitted in Mumbai Hospital: महाराष्ट्र सरकार बनाने को लेकर चल रही कवायद के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने मुंबई अस्पताल में करवाई एंजियोप्लास्टी

DK Shivakumar Admitted in Bengaluru Hospital: सीने में दर्द की शिकायत के बाद डीके शिवकुमार को बेंगलुरू के अस्पताल में भर्ती

SBI Chairman on Co-operate Banks: पीएमसी घोटाले पर एसबीआई के चेयरमैन ने कहा- सहकारी बैंक ना दें कर्ज

7th Pay Commission Latest News: सातवें, छठे और पांचवे वेतन आयोग के तहत इन केंद्रीय कर्मचारियों के डीए में होगा बंपर इजाफा, जानें सारी जानकारी