बिजनौर. उत्तर प्रदेश के बिजनौर में मायावती की बसपा के विधानसभा प्रभारी हाजी एहसान अहमद और भांजे शादाब की गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस वारदात के पीछे की वजह जमीनी विवाद माना जा रहा है. आरोपियों ने अपराध को अंजाम मृतक बहुजन समाज पार्टी के नेता एहसान के दफ्तर में दिया है. मामले की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है.

मिली जानकारी के अनुसार, नजीबाबाद शहर के बसपा प्रभारी एहसान अहमद प्रॉपर्टी का काम करते थे. इस घटना से पहले मंगलवार को एहसान अपने भांजे के साथ ऑफिस पर बैठे थे. इस दौरान से कुछ बदमाश बिजनौर लोकसभा सीट से बसपा के सांसद मलूक नागर की जीत की खुशी में मिठाई के डिब्बे में पिस्टल रखकर आए. उस समय हाजी एहसान सोफे पर बैठकर किसी कार्य में बिजी थे. अगले ही पल बदमाश पिस्टल से एहसान, उनके भांजे और दफ्तर में मौजूद अन्य व्यक्ति पर गोलियां बरसाकर मौके से फरार हो गए.

आनन-फानन में घायलों को अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान हाजी एहसान और शादाब की मौत हो गई. दिन दहाड़े हुए इस जुर्म की सूचना पाकर पुलिस के आला-अधिकारी फोर्स समेत घटनास्थल पर पहुंच गए. माना जा रहा है कि आरोपियों ने इस वारदात को अंजाम को प्रॉपर्टी विवाद के चलते दिया है. फिलहाल पुलिस अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर मामले की जांच करने में जुटी हुई है. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

Amethi BJP Leader Murder Case: यूपी पुलिस का खुलासा- राजनीतिक रंजिश बनी अमेठी में स्मृति ईरानी के करीबी बीजेपी नेता सुरेंद्र सिंह की हत्या की वजह, 3 लोग गिरफ्तार

UP Lok Sabha Elections 2019 Result: यूपी में सपा-बसपा- आरएलडी महागठबंधन और राहुल गांधी की कांग्रेस नहीं भेद पाई बीजेपी का चक्रव्यूह

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App