सासाराम: मॉब लिंचिंग कैपिटल बनते जा रहे बिहार में भीड़ के हाथों एक और शख्स की दर्दनाक मौत हो गई है. इस बार मामला रोहतास जिले का है जहां एक रेलवे कर्मी से 24 लाख रुपये लूटकर भागने की कोशिश कर रहे 20 साल के युवक की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी.

राज्य में पिछले पांच दिनों में मॉब लिंचिंग के 6 मामले सामने आ चुका है जिससे कानून व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं. जानकारी के मुताबिक सासाराम स्टेशन पर कार्यरत बुकिंग असिस्टेंट अशोक सिंह टिकट की बिक्री के पैसे जमा करने बैंक जा रहे थे कि तभी पंकज गोस्वामी नाम के एक शख्स ने उनका पैसों से भरा बैग खींचने की कोशिश की. अशोक ने जब विरोध किया तो युवक ने गोली भी चला दी.

पंकज ने जैसी ही बैग लेकर भागने की कोशिश की वैसे ही भीड़ ने हल्ला मचा दिया और उसे घेर लिया गया. इसके बाद भीड़ ने लाठी-डंडों और पत्थर से उसपर हमला कर दिया. रोहतास एएसपी राजेश कुमार के मुताबिक भीड़ ने मात्र दस मिनट में उसकी जान ले ली. मौके से पांच गोलियां भी बरामद हुई है.

अधिकारियों के मुताबिक राज्य में बढ़ती गैंगरेप की घटनाओं से लोगों के मन में आक्रोश भर दिया है. जनता अब उसी जगह फैसला करने को सही मानती है क्योंकि वो जानती है कि भीड़ की कोई शक्ल नहीं होती और वो खुद ही कानून को अपने हाथ में लेकर फैसला कर देती है.

बिहार के सीतामढ़ी में मॉब लिंचिंग, पैसे छीनने के आरोप में भीड़ ने युवक को उतारा मौत के घाट

रकबर खान लिंचिंग: चार्जशीट में हैरतअंगेज खुलासा, सोच-समझकर किया था हमला, पुलिस वालों ने रुककर पी थी चाय