पटना: चुनाव में एक दूसरे पर छींटाकशी होती रहती है लेकिन बिहार विधानसभा चुनाव में ये छींटाकशी सारी मर्यादाओं को पार कर गई. चुनावी भाषणों में कोई किसी को औकात दिखाता नजर आया तो कोई यहां तक कहने से नहीं चूका कि किसके कितने बच्चे हैं. एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश कुमार ने बिना लालू यादव या उनके परिवार का नाम लिए कहा कि 8-8, 9-9 बच्चे पैदा करने वाले बिहार का विकास करने चले हैं. बेटे की चाह में कई बेटियां हो गईं. मतलब बेटियों पर भरोसा नहीं है. ऐसे लोग क्या बिहार का भला करेंगे? चुनावी विशलेषक नीतीश कुमार के बयान को लालू परिवार से जोड़कर देख रहे हैं.

इस बाबत जब तेजस्वी यादव से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘हमारे बहाने नीतीश कुमार जी पीएम नरेंद्र मोदी को निशाना बना रहे हैं. नरेंद्र मोदी जी भी 6-7 भाई बहन हैं. हमने तो पहले भी कहा है कि नीतीश कुमार जी पूरे तरीके से शारीरिक और मानसिक तौर पर थक चुके हैं. नीतीश जी चाहे हमको कितना भी गाली दें लेकिन वो रोजगार पर बात नहीं करना चाहते. वो कारखाने पर बात नहीं करना चाहते. पलायन, गरीबी, भुखमरी पर वो बात नहीं करना चाहते. हमने तो कहा है कि उनका बोला हुआ हमारे लिए आशीर्वाद के तौर पर है. दूसरी बात अगर वो ऐसी बात बोलते हैं कहीं ना कहीं से महिलाओं की मर्यादाओं को ठेस पहुंचाने का काम कर रहे हैं. मेरी मां की मर्यादा को ठेस पहुंचाने का काम कर रहे हैं नीतीश कुमार जी’

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर को होना है. बुधवार को पहले चरण की 71 सीटों पर मतदान होना है. इस दौरान कुल 1066 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होगा. यही नहीं बिहार सरकार के आठ मंत्रियों के राजनीतिक भविष्य का भी कल फैसला होगा. कल जिन हाई प्रोफाइल सीट पर सबकी नजर होगी वो सीट होगी मोकामा जहां से बाहुबली प्रत्‍याशी अनंत सिंह चुनाव लड़ रहे हैं.

Bihar Assembly Election 2020: बिहार के मुंगेर में दुर्गा विसर्जन के दौरान हिंसक झड़प में एक शख्स की मौत, पुलिस के दावों पर उठे कई सवाल

Bihar Polls 2020: बिहार में मतदान के पहले चरण से पहले चिराग पासवान के तीखे तेवर, कहा- नीतीश कुमार के लिए जेल ही सही जगह

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर