पटना: बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग के लिए प्रचार प्रसार खत्म हो गया है. 28 अक्टूबर को पहले चरण का मतदान होना है. इस बीच पटना की सड़कें तेजस्वी यादव और पीएम नरेंद्र मोदी के पोस्टरों से पटी पड़ी है वहीं नीतीश कुमार पोस्टर से बाहर हैं. तेजस्वी यादव ने युवाओं की नब्ज पकड़ते हुए पहली कैबिनेट मीटिंग में दस लाख युवाओं को नौकरी देने का वादा किया है. यही नहीं तेजस्वी ने चुनावी भाषण से ये भी कहा कि जिन युवकों की शादी नहीं हो रही, नौकरी लगते ही उनकी शादी भी हो जाएगी. तेजस्वी यादव के इस बयान पर जमकर तालियां पड़ी.

गौरतलब है कि बिहार में रोजगार एक बड़ी समस्या है और लाखों युवाओं की नौकरी के साथ-साथ शादी के सपने भी अधर में अटके हैं क्योंकि बिहार में बेरोजगार युवकों की शादी करने में बहुत दिक्कत होती है. वहीं सरकारी नौकरी वाले लड़कों की चट मंगनी-पट बियाह हो जाता है. चिराग ने दोनों नब्ज को पकड़ लिया है. चिराग अब सिर्फ नौकरी का नहीं बल्कि युवकों को नौकरी के बाद शादी के भी सपने दिखा रहे हैं. गौरतलब है कि बिहार में पूरे देश की अपेक्षा सबसे अधिक युवा हैं और ये बात तेजस्वी यादव भी बहुत अच्छी तरह जानते हैं.

दूसरी सबसे बड़ी बात वो ये कि तेजस्वी यादव खुद युवा हैं और उन्हें पता है कि यूथ को क्या चाहिए. तेजस्वी यादव ने नौकरी को ही टार्गेट किया और उनकी रैलियों में उमड़ रहा जन समूह इस बात की गवाही देता है कि तेजस्वी का ये दांव बिलकुल सटीक बैठा है. तेजस्वी यादव के दस लाख नौकरी के दावे का माखौल उड़ा रही बीजेपी को भी आखिकार नौकरी देने का वादा करना पड़ा और बीजेपी ने तेजस्वी के मुकाबले 19 लाख युवाओं को नौकरी का वादा कर दिया. बीजेपी और आरजेडी की रैलियों में खाली पड़ी कुर्सियों से कायस लगाए जा रहे हैं कि जनता को तेजस्वी के वादे पर ज्यादा यकीन है.

Bihar Polls 2020: बिहार में मतदान के पहले चरण से पहले चिराग पासवान के तीखे तेवर, कहा- नीतीश कुमार के लिए जेल ही सही जगह

Bihar Election 2020: बिहार में विपक्ष पर जमकर बरसे पीएम नरेंद्र मोदी पर चिराग पासवान पर साधी चुप्पी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर