मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर में कुछ अज्ञात लोगों ने एक 9 वर्षीय बच्ची का गैंगरेप कर उसे और उसके छोटे भाई को मौत के घाट उतार डाला. बया नदी किनारे से दोनों बच्चों के शवों को बरामद किया गया. परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. पुलिस आरोपियों की तलाश में लगी हुई है. बता दें कि मुजफ्फरपुर में बालिका गृह रेप कांड को लेकर हंगामा मचा हुआ है, जहां 21 बच्चियों के साथ रेप होने की पुष्टी हुई है.

मिली जानकारी के मुताबिक, रविवार को 9 साल की बच्ची और उसका 7 वर्षीय भाई पशु चराने गए हुए थे. पशु तो वापस आ गए लेकिन शाम तक दोनों बच्चे वापस नहीं लौटे. परिजनों ने दोनों की खोजबीन शुरू की. पुलिस को भी इस मामले की सूचना दी गई. कुछ समय बाद बया नदीं के किनारे दोनों बच्चों की लाश पड़ी मिली. पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

बच्चों के पिता ने बताया कि उनकी बेटी के साथ गैंगरेप किया गया. जिसके बाद दोनों बच्चों की हत्या कर दी गई. पीड़ित परिवार ने इस मामले में गांव के तीन लोगों पर आरोप लगाया है. पुलिस के मुताबिक, परिजनों की शिकायत पर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है.

बतात चलें कि यह मामला मुजफ्फरपुर में बालिका गृह रेप कांड में हुए हंगामे के बीच सामने आया है. दरअसल बीते दिनों मुंबई की संस्था टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइसेंज़ (टीआईएसएस) की टीम ने बालिका गृह के सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी की थी जिसमें 21 लड़कियों के साप रेप का खुलासा हुआ. वहीं पीड़ित लड़कियों का कहना है कि शेल्टर होम के कर्मचारियों द्वारा पिटाई के बाद एक लड़की की मौत हो गई, जिसका शव परिसर में ही दफना दिया गया था. पुलिस ने इस मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. वहीं सूबे के विपक्षी दलों ने इस मामले को लेकर नीतीश कुमार सरकार पर हमला बोला है.

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण: 21 रेप की पुष्टि पर बोला सोशल मीडिया- नीतीश के बिहार में लौटा जंगलराज

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषणः मेडिकल जांच में 21 से रेप की पुष्टि, कंकाल की खोज में शेल्टर होम की खुदाई

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App