पटनाः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की विकास समीक्षा यात्रा के दौरान बक्सर के नंदन गांव में शुक्रवार को हुए उनके काफिले पर हुए पथराव पर तेजस्वी यादव ने एक तरफ तो दुख व्यक्त किया वहीं दूसरी तरफ तंज कसते हुए कहा कि यह तो होना ही था. तेजस्वी यादव ने कहा कि जिस दिन से नीतीश कुमार ने समीक्षा यात्रा शुरू की है उसी दिन से उन्हें लोगों का विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी का सामना करना पड़ रहा है.

नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए तेजस्वी यादव ने यह भी कहा कि बिहार के सीएम को बिहार के विकास की समीक्षा से पहले अपने व्यक्तित्व औऱ राजनीतिक चरित्र की समीक्षा करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि विकास समीक्षा यात्रा के दौरान नीतीश कुमार की सभा में कहीं जूते-चप्पल चलते हैं, तो कहीं भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस वालों को हवाई फायरिंग करनी पड़ती है.

तेजस्वी ने आगे कहा कि नीतीश कुमार आत्मचिंतन करना चाहिए कि उनके काफिले पर ही हमले क्यों हो रहे हैं. न्होंने पूछा कि आखिर मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि किस असुरक्षा की भावना से ग्रस्त होकर वह शिक्षा, स्वास्थ्य, विकास और रोजगार जैसे अति जरूरी और गंभीर मसलों को छोड़कर दूसरे मसलों पर राग अलाप रहे हैं? बता दें कि शुक्रवार को सीएम नीतीश कुमार के काफिले पर समीक्षा यात्रा के दौरान स्थानीय लोगों ने जमकर पथराव किया था. लोग इस बात को लेकर गुस्सा थे कि नीतीश कुमार कुछ देऱ और रुककर उनकी समस्या सुनें.

यह भी पढ़ें- लालू यादव चारा घोटाला फैसलाः लालू की सजा को तेजस्वी यादव ने बताया सीएम का षड़यंत्र, बोले- थैंक यू सो मच नीतीश कुमार

लालू यादव चारा घोटाला मामला: तेजस्वी यादव, रघुवंश प्रसाद सिंह और मनोज झा और को कोर्ट की अवमानना का नोटिस, 23 जनवरी को पेशी