पटना: बिहार की नवनिर्वाचित सरकार की 17वीं विधानसभा के 101 सदस्यों ने सोमवार को सदन की सदस्यता की शपथ ली लेकिन पहले ही दिन विवाद खड़ा हो गया. एआईएमआईएम के विधायक अख्तरुल इमान ने शपथ लेने के दौरान हिंदुस्तान शब्द बोलने पर अपनी आपत्ति जताई जिसको लेकर हंगामा मच गया. शपथ लेने के दौरान अख्तरुल इमाम ने कहा कि संविधान में लिखा है हम भारत के लोग लेकिन यहां भारत की जगह उर्दू में हिंदुस्तान लिखा है. अख्तरुल इमान ने हिंदुस्तान की जगह भारत बोलने की बात कही जिसको लेकर विवाद हो गया. बीजेपी नेता और सुपौल के छातापुर से विधायक नीरज कुमार बबलू ने कहा कि जिन लोगों को हिंदुस्तान बोलने में दिक्कत है उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए. जेडीयू विधायकों ने भी कहा कि किसी को हिंदुस्तान बोलने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

दूसरी तरफ कांग्रेस के टिकट पर कदवा से जीतकर आए शकील अहमद खान ने संस्कृत भाषा में शपथ ली तो बिहार विधानमंडल का पूरा सेंट्रल हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. शकील अहमद के संस्कृत भाषा में शपथ लेने के बाद पक्ष-विपक्ष सबने उनकी सराहना की. बिहार विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर जीतन राम मांझी ने 11 बजे अपना आसन लिया जिसके बाद कुल 190 विधायकों ने बारी बारी शपथ ली. इनमें से 15 विधायकों ने मैथिली में शपथ ली वहीं 7 विधायकों ने उर्दू में, 5 विधायकों ने इंग्लिश और 159 विधायकों ने हिंदी में शपथ ली.

एआईएमआईएम के विधायक अख्तरुल इमान के हिंदुस्तान और भारत को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर विवाद हुआ जिसपर विवाद अब भी जारी है. सोशल मीडिया पर भी इस बारे में क्रिया और प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है. बहरहाल इस दौरान एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी से भी प्रतिक्रिया मांगी जा रही है.

Bihar Education Minister Mewa Lal Resign: बिहार के शिक्षा मंत्री का चार्ज संभालने के कुछ घंटों बाद ही मेवा लाल को देना पड़ा मंत्री पद से इस्तीफा

Lakshmi Vilas Bank: धन लक्ष्मी बैंक के खाताधारक नहीं निकाल सकेंगे 25 हजार से ज्यादा की रकम, आरबीआई ने जारी की गाइडलाइंस

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर