नई दिल्ली: भूपेन हजारिका के बेटे तेज हजारिका ने नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में अपने पिता को मिले भारत रत्न पुरस्कार सम्मान को लौटाने का एलान किया है. हाल ही में भारत सरकार ने भूपेन हजारिका, प्रणब मुखर्जी और नानाजी देशमुख को भारत के सबसे बड़े सम्मान यानी भारत रत्न देने का एलान किया था. भूपेन हजारिका को भारत रत्न के अलावा दादा साहेब फालके और पद्म भूषण सम्मान से भी नवाजा जा चुका है. 

भूपेन हजारिका भारतीय सिनेमा जगत में जाना माना नाम हैं. उन्होंने अपने जीवन में एक हजार से ज्यादा गाने और 15 किताबें लिखीं. रुदाली, साज, दरमियां, दमन, मिल गई मंजिल मुझे और क्यों जैसी सुपरहिट फिल्मों के गाने लिखे जो आज भी लोगों की जुबां पर हैं. भूपेन हजारिका का संगीत आज भी संगीतकारों में मिसाल की तरह याद किया जाता है. यही वजह है कि सरकार ने भूपेन हजारिका को भारत रत्न सम्मान से नवाजने का फैसला किया था लेकिन अब खबर है कि उनका परिवार नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में उन्हें मिला सम्मान लौटाना चाहता है.

गौरतलब है कि असम समेत पूरे उत्तर पूर्वी भारत में नागरिकता संशोधन बिल का विरोध हो रहा है. ये विधेयक हिंदू, बौद्ध, सिख, जैन, पारसी और ईसाइयों को पाकिस्तान, अफगानिस्तान या बांग्लादेश चले गए थे और बिना किसी कागज के भारत लौट आए हैं उन्हें भारत की नागरिकता के लिए वैध बनाता है यानी ये बिल गैर मुस्लिम समुदाय को भारत की नागरिकता पाने का रास्ता खोलता है.

Social Media Reaction on Padma awards 2019: गौतम गंभीर समेत इन हस्तियों को मिला पद्म पुरस्कार, ट्विटर पर आए अनोखे रिएक्शन

Gita Mehta Turned down Padma Shri: ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक की बहन और मशहूर लेखिका गीता मेहता ने पद्मश्री अवॉर्ड ठुकराया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App