नई दिल्ली, चक्रवात असानी ने ओडिशा में दस्तक दे दी है, चक्रवात के कारण समुद्र पूरी तरह से अशांत हैं. समुद्र की स्थिति को देखते हुए मछली पकड़ने गए मछुआरे वापस लौट रहे हैं. इसी क्रम में आज सुबह मछुआरे नाव से लौट ही रहे थे कि एक के बाद एक कुल 6 नाव पलट गई. इन 6 नावों में 60 मछुआरे सवार थे, समुद्री लहर में फंसने के कारण ये नाव तट के पास पलट गई. किसी तरह से मछुआरों ने तैर कर खुद को बचाया.

इन जिलों में अलर्ट जारी

चक्रवात असानी के दुष्परिणाम को देखते हुए मौसम विभाग ने लोगों को सुरक्षित स्थानों में जाने की सलाह दी है. आईएमडी ने कहा, चक्रवात के 10 मई तक उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और उत्तर आंध्र प्रदेश तथा ओडिशा के तटों से पश्चिम-मध्य और उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी तक पहुँचने की संभावना है, इसलिए लोगों को घरों में रहने की ही सलाह दी जाती है.

इसके साथ ही, मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के हूघली, हावड़ा, कोलकाता, पश्चिम मिदनापुर जिलों के कुछ हिस्सों में गरज और मध्यम बारिश की संभावना जताई है. भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाला चक्रवाती तूफान विशाखापत्तनम से लगभग 550 किमी दक्षिण-पूर्व और पुरी से 680 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में केंद्रित था, ये तूफ़ान 10 मई तक आंध्र प्रदेश तथा ओडिशा के तटों से टकरा सकता है.

मौसम विभाग के मुताबिक, चक्रवात असानी का असर पोर्ट ब्लेयर, विशाखापत्तनम और पुरी में देखने को मिल सकता है. चक्रवात असानी की वजह से ओडिशा, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में तेज हवाएं चलने के साथ बारिश होने की भी संभावनाएं हैं. हालांकि, मौसम विभाग का कहना है कि ये चक्रवात 48 घंटे के अंदर कमज़ोर हो सकता है. 

 

मोहाली: पंजाब पुलिस के खुफिया विभाग की बिल्डिंग पर रॉकेट लॉन्चर से हमला

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर