नई दिल्लीः लगातार कई दिनों से बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दामों के चलते विपक्ष ने सोमवार (10 सितंबर) को भारत बंद बुलाया था. जिसका असर भी काफी हद तक देखने को मिला. केंद्र सरकार के विरोध में कांग्रेस नेता अजय माकन बैलगाड़ी पर राजेन्द्र पैलेस के पास स्थित पेट्रोल पंप पहुंचे. उन्होंने पेट्रोल-डीजल के दामों पर जीएसटी के दायरे में लाने की मांग की. उन्होंने कहा कि यूपीए शासन के समय 2014 में पेट्रोल पर प्रति लीटर पर 9.20 एक्साइज ड्यूटी थी जो कि मोदी सरकार में बढ़कर 19.48 तक पहुंच गई जिससे इसके दामों में करीब 211.7 प्रतिशत बढ़ोत्तरी दर्ज की गई.

इसी तरह यूपीए सरकार के दौरान डीजल पर जो एक्साइज ड्यूटी 3.46 थी वो मोदी सरकार में बढ़ाकर 15.33 प्रति लीटर कर दी गई जिससे इनके दामों में लगभग 443.06 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई.  बता दें कि विपक्ष ने पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के चलते केंद्र सरकार के खिलाफ बारत बंद का ऐलान किया था जिसका असर कई राज्यों में देखने को मिला. भारत बंद के दौरान कई राज्यों में आगजनी, हिंसा की घटनाएं सामने आईं. 

वहीं इस मामले पर जमकर राजनीति भी हुई भारत बंद पर बीजेपी ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला और बिहार के जहानाबाद में हुए एक बच्ची की मौत का जिम्मेदार ठहराया. जिस पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद पर जोरदार हमला बोला. आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी बदस्तूर जारी है. जिसके चलते विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोल रहा है. इसी तरह तेल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस समेत विपक्ष की कई पार्टियों ने भारत बंद का ऐलान किया था. 

यह भी पढ़ें- महंगे पेट्रोल-डीजल का सस्ते से छोटा ग्राफ, सोशल मीडिया पर कांग्रेस, आप के हाथों बीजेपी ट्रोल

जहानाबाद में भारत बंद की वजह से नहीं हुई थी बच्ची की मौत, तेजस्वी यादव ने रविशंकर से की माफी की मांग