कोलकाताः पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने शुक्रवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होंने ममता बनर्जी को एनआरसी के मामले पर घेरते हुए कहा, ‘ममता बनर्जी आश्वस्त कर रही हैं कि वह उन लोगों को आश्रय प्रदान करेगी जिन्हें असम से निकाल दिया जाएगा. लेकिन, उन्होंने असम-बंगाल सीमा को सील कर दिया है, ताकि कोई भी बंगाल में प्रवेश नहीं कर सके. ऐसे दोहरे मानकों में उन 40 लाख लोगों के लिए कठिनाई होगी’

उन्होंने आरोप लगाया की ममता बनर्जी एक तरफ बंगाल से निकाले गए लोगों को आश्रय प्रदान करने का आश्वासन दे रही हैं लेकिन दूसरी तरफ उन्होंने बंगाल असम की सीमा को सील करवा दिया है ताकि कोई भी असम से बंगाल में न घुस सके.रंजन ने ममता पर दोहरे मानक अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि ममता के ऐसा करने से उन 40 लाख लोगों को काफी कठिनाई होगी जिनको असम से निकाल दिया जाएगा.

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब कांग्रेस नेता अधीर रंजन ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा हो इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के एक दिन बाद उन्होंने ममता बनर्जी पर बयान देते हुए कहा, ‘वह गिरगिट हैं, गिरगिट अपना रंग बदलता है. उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता और उनके बारे में कोई अनुमान लगाना बेमानी होगी’.

रंजन यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा, ‘ऐसे में कांग्रेस और अन्य नेताओं को उन पर जरा भी भरोसा नहीं करना चाहिए. ममता बनर्जी एक तानाशाह हैं और अब वह खुद को एक महिला संत के रुप में लोगों के सामने पेश कर रही हैं. वह पश्चिम बंगाल में हमें मतदान नहीं करने देकर या चुनाव में खड़े नहीं होनें देकर बंगाल से कांग्रेस का सफाया करना चाहती हैं. कांग्रेस के तमाम नेता जेल में हैं जिसको देखकर ऐसा लग रहा है कि बंगाल में राजनीति कर ना एक अपराध है. हम ममता बनर्जी की राज्य में सफाए की राजनीति के शिकार हो रहे हैं’ 

यह भी पढ़ें- असम एनआरसी: टीएमसी नेताओं को हिरासत में लेने को ममता बनर्जी ने बताया सुपर इमरजेंसी, कहा- बीजेपी हताश हो चुकी है

मिदनापुर में PM की रैली में गिरे टेंट पर केंद्र की रिपोर्ट में ममता सरकार जिम्मेदार, लगे ये आरोप

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App