नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस समारोह को लेकर इस बार काफी बदलाव किए जा रहे हैं। इस साल गणतंत्र दिवस समारोह नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती यानी 23 जनवरी से शुरू हो रहे हैं। इसके अलावा इस बार भी कार्यक्रमों में कई बदलाव किए गए हैं।

29 जनवरी को होने वाले ‘बीटिंग रिट्रीट’ समारोह में बजाए जाने वाले धुनों में भी बदलाव किया गया है। खास मौकों पर बजाया जाने वाला ‘अबाइड विद मी’ गाना भी इस साल नहीं सुना जाएगा।

महात्मा गांधी की सबसे पसंदीदा धुन

इस धुन को महात्मा गांधी की सबसे पसंदीदा धुन कहा जाता था। कांग्रेस ने सरकार के इस फैसले का विरोध किया है और यहां तक कि राष्ट्रपिता की विरासत को मिटाने का भी आरोप लगाया है।

इस पर सफाई देते हुए सरकारी सूत्रों ने कहा, ‘यह पहली बार नहीं है कि ‘बीटिंग रिट्रीट’ समारोह में शामिल धुनों में बदलाव किया जा रहा है।

पहले हमें यह समझने की जरूरत है कि यह कोई सैन्य समारोह नहीं है जो आमतौर पर सेना दिवस, नौसेना दिवस या वायु सेना दिवस पर होता है। यह भारत की संस्कृति को दर्शाने वाला एक समारोह है, जिसमें भारत की संस्कृति की झलक देखने को मिलती है।

सरकारी सूत्रों के मुताबिक पहले भी कई बदलाव किए गए हैं। उदाहरण के लिए, वर्ष 2012 में हुए बदलाव को भी शामिल किया गया है, जब पहली बार शहनाई को ‘बीटिंग रिट्रीट’ समारोह में शामिल किया गया था। जनवरी 2014 में, ‘रघुपति राघव राजा राम’ और ‘जहाँ दाल दाल पर सोने की चिड़िया’ गीतों की धुन बजाई गई।

यहां तक कि यूके के बीटिंग रिट्रीट समारोह को भी 2001 में बदल दिया गया था जब समारोह में फिल्म ‘स्टार वार्स’ का थीम संगीत शामिल किया गया था।

जिन्होंने हमें उपनिवेश बनाया, जब वे समय के साथ बदल रहे हैं, तो लुटियंस की दिल्ली की चयनात्मक गुलाम मानसिकता से क्या समस्या है, वह भी तब जब भारत आगे बढ़ने के लिए तत्पर है।

पहले भी हो चुके हैं बदलाव

याद रहे, 2012 में बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी में 7 विदेशी धुनों को स्थान दिया गया था, जबकि 2013 में इसे घटाकर 5 कर दिया गया था, यानी एक साल के भीतर 2 विदेशी धुनों को हटा दिया गया था। धुनों को जोड़ना और हटाना एक ऐसी प्रक्रिया है जो बिल्कुल भी नई नहीं है। पूर्व में भी कई बदलाव हुए हैं।

उदाहरण के लिए, 2011 में इस विशेष आयोजन में ‘द हाई रोड टू लिंटन’ धुन बजाया गया था, लेकिन 2013 में इसे हटा दिया गया था। यह एक साधारण बात है कि अगर ब्रिटिश सरकार के सैनिकों को इस धुन पर गर्व था, तो ऐसा क्यों है भारतीयों पर थोपा जा रहा है।

एबाइड विद मी को क्यों हटाया गया?

‘ऐ मेरे वतन के लोगन’ गाना भारतीयों को और अधिक गौरवान्वित महसूस कराएगा क्योंकि यह हमारे देशवासियों के बलिदान को दर्शाता है।

हमारे देशवासियों के बलिदानों को याद रखना ‘मेरे साथ रहो’ से ज्यादा उचित है। यह गीत सभी भारतीयों में देशभक्ति की भावना जगाता है। इसलिए इस साल किए गए बदलाव भारतीयों को ध्यान में रखते हुए किए गए हैं।

Indian Navy Recruitment 2022 : भारतीय नौसेना में इन पदों पर निकली भर्ती, जाने आवेदन की तिथि

Mayawati Attack On Priyanka Gandhi : मायावती ने प्रियंका गांधी के ‘सीएम फेस’ यू-टर्न का मजाक उड़ाया; ‘कांग्रेस पर वोट बर्बाद न करें’

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर