नई दिल्ली. बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए के अब्दुल मोमन ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र के रूप में भारत के ऐतिहासिक चरित्र को कमजोर कर सकता है और इस आरोप को खारिज कर दिया कि अल्पसंख्यक अपने देश में धार्मिक उत्पीड़न का सामना कर रहे थे. उन्होंने कहा, भारत ऐतिहासिक रूप से एक सहिष्णु देश है जो धर्मनिरपेक्षता में विश्वास करता है लेकिन उनकी ऐतिहासिक स्थिति कमजोर हो जाएगी यदि वे इससे भटक जाते हैं. उन्होंने कहा कि बांग्लादेश और भारत दोस्ती के संबंधों का आनंद ले रहे थे, जिन्हें द्विपक्षीय संबंधों का सुनहरा अध्याय कहा गया था और इसलिए, स्वाभाविक रूप से हमारे लोगों को उम्मीद है कि भारत ऐसा कुछ भी नहीं कर सकता जो उनके बीच चिंता पैदा कर सके.

मोमन ने गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बांग्लादेश में अल्पसंख्यक दमन के आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि जिसने भी उन्हें जानकारी दी है, वह सही नहीं है. उन्होंने कहा, हमारे देश के कई महत्वपूर्ण निर्णय अलग-अलग धर्मों के व्यक्तियों द्वारा लिए जाते हैं. हम कभी भी किसी को उनके धर्म से नहीं आंकते हैं. मोमन ने कहा कि बांग्लादेश ने मजबूत धर्म सद्भाव बनाए रखा और सुनिश्चित किया कि सभी धर्मों के अनुयायी हर क्षेत्र में समान अधिकारों का आनंद लें. उन्होंने कहा, बहुत कम ही देश ऐसे हैं जहां सांप्रदायिक सद्भाव बांग्लादेश में उतना ही अच्छा है. यदि वह (गृह मंत्री अमित शाह) कुछ महीनों के लिए बांग्लादेश में रहे, तो उन्हें हमारे देश में अनुकरणीय सांप्रदायिक सौहार्द दिखाई देगा.

उन्होंने गुरुवार को ढाका अर्ल आर मिलर में अमेरिकी राजदूत के साथ अपनी बातचीत के दौरान कहा, दूत ने सीएबी के बारे में अमेरिका की चिंता व्यक्त की. यूएस उस के बारे में महत्वपूर्ण विचार कर रहे हैं. उनका मानना ​​है कि भारत ने इस विधेयक को पारित करके अपनी स्थिति को कमजोर कर दिया है. उन्होंने ये भी कहा कि, भारत के अपने देश के भीतर कई समस्याएं हैं. उन्हें आपस में लड़ने दें. यह हमें परेशान नहीं करता है. एक मित्र देश के रूप में, हम आशा करते हैं कि भारत कुछ ऐसा नहीं करेगा जो हमारे दोस्ताना संबंधों को प्रभावित करता है.

Also read, ये भी पढ़ें: Citizenship Amendment Bill Passed in Rajya Sabha: राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल पारित होने पर कांग्रेस ने बताया संविधान के इतिहास का काला दिन, टीएमसी बोली- पश्चिम बंगाल में नहीं लागू होगा यह कानून

Citizenship Amendment Bill Protest: नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ प्रदर्शन के चलते गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ विश्वविधालयों में परीक्षाएं 16 दिसंबर तक स्थगित

Citizenship Amendment Bill 2019 in Rajya Sabha Highlights: नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में पारित, नरेंद्र मोदी सरकार को मिली बड़ी सफलता

BJP Parliamentary Party Meeting on CAB: नागरिकता संशोधन विधेयक के राज्यसभा में पेश होने से पहले बीजेपी ने की संसदीय दल की बैठक

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर