नई दिल्ली. दिल्ली का चांदनी चौक राजधानी का पहला ऐसा इलाका बन गया गया है जहां मोटर व्हीकल बैन कर दिए गए हैं. इस क्षेत्र में अब सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक केवल पैदल चलने वालों, साइकिल रिक्शा और ई-रिक्शा को आने की इजाजत होगी. सरकारी अधिकारियों ने ये जानकारी दी है. लाल किले से फतेहपुर सीकरी तक के क्षेत्र को केवल पैदल चलने वालों और गैर मोटर व्हीकल के लिए रखने के प्रस्ताव को सोमवार को दिल्ली के एलजी अनिल बैजल ने अंतिम मंजूरी दे दी. एकीकृत यातायात और परिवहन बुनियादी ढांचे (योजना और इंजीनियरिंग) केंद्र (यूटीटीआईपीईसी) में निदेशक मनीश कुमार वर्मा ने कहा कि केवल नॉन मोटर व्हीकल जैसे साइकिल रिक्शा, ई रिक्शा को ही इस क्षेत्र में आने की इजाजत होगी.

एलजी अनिल बैजल की अध्यक्षता में शहर में सभी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को यूटीटीआईपीईसी द्वारा अप्रूव किया जाना है. दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) से योजना को लागू करने के लिए कहा गया है. पीडब्लूडी के एक अधिकारी ने कहा है कि इस परियोजना को लागू करने के लिए पहले से ही टाइमलाइन तैयार कर ली गई है जिसे पीडब्लूडी मंत्री का अप्रूवल भी मिल चुका है. उन्होंने बताया कि 12 घंटों के लिए इस क्षेत्र में मोटर व्हीकल को पूरी तरह बैन करने के लिए अभी 6 से 12 महीनों का समय लगेगा.

चांदनी चौक ट्रेडर्स एसोसिएशन के अनुसार हर रोज इस क्षेत्र में 150,000 से 200,000 लोग आते हैं. इसके अलावा 2000 साइकिल रिक्शा और ई-रिक्शा इस क्षेत्र में आते जाते हैं. इसके अलावा का, टू व्हीलर और ऑटो रिक्शा की आवाजाही के चलते होने वाली भीड़ से लोगों का काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

भोजपुरी सुपरस्टार दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ ने आम्रपाली दुबे से रचाई शादी, देखें वीडियो

1 अक्टूबर से शुरू होगी मुंबई गोवा क्रूज सर्विस, ये होगा किराया, समय और लग्जरी सुविधाएं

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App