कोलकाता: दुर्गा पूजा पंडाल में अजान चलाने से कोलकाता में विवाद हो गया है. दरअसल उत्तरी कोलकाता के बेलियाघाट 33 स्थित दुर्गा पूजा पंडाल की थीम इस बार स्रांप्रदायिक सौहार्द को ध्यान में रखते हुए बनाई गई थी जहां हिंदू-मुस्लिम और ईसाई धर्म के प्रतीक चिन्हों को जगह दी गई थी. यहां तक तो ठीक था लेकिन पंडाल के अंदर अजान की धुन चलाने के बाद मामला बिगड़ गया. एडवोकेट शांतनु सिंघा ने पुलिस में आयोजनकर्ताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज करवा दी जिसमें कहा गया कि आयोजनकर्ता दुर्गा पंडाल में अजान चलाकर इलाके में शांति भंग करने की कोशिश कर रहे हैं.

सिंघा ने शिकायत में कहा कि दुर्गा पंडाल में अजान चलाना पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित कार्य है. उन्होंने कहा कि वो मुस्लिम भावनाओं की कद्र करते हैं, लेकिन दुर्गा पूजा के पंडाल में अजान का क्या मतलब है? अजान पूरी तरह से मुसलमानों की प्रार्थना है जो मुसलमानों द्वारा पढ़ी जाती है. सिंघा का आरोप है कि दुर्गा पूजा पंडाल में अजान सिर्फ इसलिए सुनाई गई क्योंकि ये तृणमूल कांग्रेस द्वारा प्रायोजित पंडाल है.

शांतनु सिंघा ने दलील दी कि क्या आप उम्मीद भी कर सकते हैं कि कल मस्जिद से गीता के श्लोक सुनाए जाएंगे या फिर चर्च से चंडी पाठ होगा? क्या ये धार्मिक एकता को बढ़ाने में मदद करेगा? शांतनु सिंघा ने कहा कि वो ये शिकायत किसी राजनीतिक पार्टी के कहने पर नहीं बल्कि खुद से कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि सामाजिक और धार्मिक सौहार्द के नाम पर इस तरह के आविष्कार तुरंत बंद होने चाहिए क्योंकि इसके पीछे छुपा हुआ एजेंडा दूसरा है. उन्होंने कहा कि ये मेरी भावनाओं को आहत करता है क्योंकि मैं हिंदू हूं. उन्होंने ये भी कहा कि मैं कभी नहीं कहूंगा कि मस्जिद से गीता का पाठ होना चाहिए.

पुलिस में दर्ज की शिकायत में शांतनु सिंघा ने कहा कि ‘आजोयनकर्ता ने हिंदूओं की धार्मिक भावनाओं को भड़काने के लिए दुर्गा पंडाल से अजान चलाई. ये हिंदूओं के खिलाफ रचा गया षड्यंत्र और उसे नीचा दिखाने की कोशिश है. ये कृत्य भविष्य में हिंदुओं की भावनाओं को भड़का सकता है क्योंकि इससे उसके धर्म का अपमान होता है.’

वहीं दूसरी आयोजनकर्ता सुशांता साहा ने इस शिकायत को लेकर कहा कि हमने सुना है कि हमारे खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है लेकिन हमें इसकी कोई कॉपी नहीं मिली है. सुशांता साहा ने कहा कि हमने सर्वधर्म एकता के उद्देश्य से मंदिर, मस्जिद और चर्च का मॉडल तैयार किया था. अजान भी उस थीम का हिस्सा थी और चर्च की बेल भी ताकि सभी धर्म एक साथ जुड़ सकें. उन्होंने कहा कि ये एक पहल थी सबको साथ लाकर एकता का संदेश देने की, जिसे राजनीतिक रंग दिया जा रहा है.

Navratri 2019 Mahanavami Live Updates: देशभर में नवरात्रि की धूम, महानवमी के मौके पर कन्या पूजन के बाद पारण, देखें कोलकाता, दिल्ली, मुंबई के दुर्गा पूजा के फोटो वीडियो

Dussehra 2019 Ravan Dahan Muhurat: 8 अक्टूबर को मनाया जाएगा दशहरा, जानें पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और विजयादशमी का महत्व

One response to “Azaan at Durga Puja Pandal: कोलकाता के दुर्गा पूजा पंडाल से अजान करने को लेकर शिकायत दर्ज, शिकायतकर्ता ने कहा- मस्जिद से गीता पाठ करने की हिम्मत है?”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App