नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले पर फैसला आज सुबह 10.30 बजे आने वाला है. सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में यह दूसरी सबसे लंबी सुनवाई वाला केस है. सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या केस की सुनवाई 40 दिन तक चली थी. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने लगातार इस केस की सुनवाई की और 16 अक्टूबर को अपना फैसला सुरक्षित रखा. अयोध्या राम मंदिर बाबरी मस्जिद मामला सुप्रीम कोर्ट में दूसरा सबसे लंबा चलने वाला केस है. पहले नंबर पर केशवानंद भारती बनाम केरल सरकार का मुकदमा है जिसकी सुनवाई 68 दिन तक चली थी.

वहीं अयोध्या केस के बाद आधार की संवैधानिकता को चुनौती देने वाला मामला शीर्ष अदालत के इतिहास में तीसरा सबसे लंबा चलने वाला केस है. इस मामले की सुनवाई 38 दिनों तक चली थी.

वहीं अयोध्या राम मंदिर जमीन विवाद मामला सिर्फ दूसरा सबसे लंबा चलने वाला केस ही नहीं बल्कि देशभर के लोगों की आस्था से जुड़ा मामला है. सुप्रीम कोर्ट आज इस मामले में जो भी फैसला देगा वो ऐतिहासिक होगा. करीब 7 दशकों से चले आ रहे इस जमीन विवाद पर आज ‘सुप्रीम’ फैसला होने वाला है. इस पर पूरे देश की नजरें टिकी हुई हैं.

बीते 16 अक्टूबर को सीजेआई रंजन गोगोई समेत पांच जजों वाली संविधान पीठ ने इस मामले की सुनवाई पूरी कर ली थी. अयोध्या केस में हिंदू-मुस्लिम समेत सभी पक्षकारों की दलीलें सुनने के बाद शीर्ष अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. अब इस मामले पर कोर्ट सुबह 10.30 बजे फैसला सुनाने जा रहा है.

अयोध्या मामले पर फैसला आने के बाद किसी भी तरह का सांप्रदायिक विवाद न हो, इसके लिए प्रशासन ने चाक-चौबंद व्यवस्था कर रखी है. देशभर के कई इलाकों में देर रात से ही धारा 144 लागू कर दी गई है और स्कूल-कॉलेजों में शनिवार की छुट्टी कर दी गई है.

Also Read ये भी पढ़ें-

अयोध्या मामले में आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले जानिए 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने क्या फैसला सुनाया था

Ayodhya Verdict: ऐतिहासिक फैसला सुनाने जा रहे CJI समेत इन पांचों जज के बारे में जानिए सब कुछ

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर