नई दिल्ली. अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद पर फैसला कुछ ही घंटों में आने वाला है. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संवैधानिक पीठ सुबह 10.30 बजे अयोध्या केस पर फैसला सुनाएगी. इससे पहले अयोध्या केस की सुनवाई करने वाले सीजेआई रंजन गोगोई समेत सभी पांचों जजों की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. सभी जस्टिस के घरों के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हैं, वहीं नई दिल्ली स्थित सुप्रीम कोर्ट का रोड भी ब्लॉक कर दिया गया है. दूसरी तरफ अयोध्या में धारा 144 लगाकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजामात किए गए हैं.

अयोध्या राम मंदिर बाबरी मस्जिद केस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद सांप्रदायिक तनाव न उपजे इसके लिए देशभर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. देशभर के कई शहरों और जिलों में शनिवार को धारा 144 लागू है. अधिकतर सरकारी और प्राइवेट स्कूल और कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है.

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 48 घंटे के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवा पर पाबंदी लगा दी गई है. साथ ही अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में तीन की छुट्टी कर सभी सेशनल एग्जाम भी रद्द कर दिए गए हैं.

अयोध्या में राम जन्मभूमि पुलिस थाना और हनुमानगढ़ी मंदिर क्षेत्र समेत पूरे शहर में भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात है. इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी प्रशासन पैनी नजर रख रहा है. कोई भी असामाजिक तत्व अफवाह या भड़काऊ बयानबाजी करता हुआ पाया जाता है तो तुरंत कार्रवाई की जाएगी.

इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ समेत सभी नेता और धर्मगुरुओं ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शांति और एकता का माहौल पेश करने की अपील की है.

नई दिल्ली स्थित सीजेआई रंजन गोगोई के घर बाहर तैनात पुलिस के जवान-

इसके अलावा जम्मू-कश्मीर, दिल्ली, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में जिला प्रशासन ने स्कूल और कॉलेजों में शनिवार को छुट्टी कर दी है. 

Also Read ये भी पढ़ें-

अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले पर आज फैसले से पहले जानिए 40 दिन तक चली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में क्या बहस हुई

सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में दूसरी सबसे लंबी सुनवाई वाले अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद केस का फैसला आज

अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले में आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले जानिए 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने क्या फैसला सुनाया था

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App