अयोध्या. अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का दिन वहां के निवासियों के लिए एक बड़ा दिन था. सुप्रीम कोर्ट ने विवादित स्थल पर एक हिंदू मंदिर की अनुमति देने के फैसले को जारी किया और अयोध्या के साथ देशभर में खुशियां मनाई गईं. इनमें एक सबसे खास उत्सव रहा अयोध्या से सटे बाजार ब्लाॅक और उसके आसपास के 105 गांव का. दरअसल यहां के सूर्यवंशी क्षत्रिय परिवार मंदिर पर हुए हमले के विरोध में 500 साल से पगड़ी और जूते नहीं पहन रहे थे. सुप्रीम कोर्ट के मंदिर के पक्ष में फैसला देने के बाद इन लोगों ने पगड़ी बांटकर खुशी मनाई हैं. अब 500 साल बाद ये क्षत्रिय समाज के लोग पगड़ी बांध रहे हैं और चमड़े के जूते पहन रहे हैं.

दरअसल कहा जा रहा है कि सूर्यवंशी समाज के पूर्वज गजसिंह ने 16वीं सदी में मुगलों से हारने के बाद प्रतिज्ञा ली थी. उन्होंने मंदिर पर हुए हमले और अपनी हार पर नाराजगी जाहिर की और प्रतिज्ञा ली कि जब अयोध्या में दोबारा मंदिर बनेगा वो तभी पगड़ी बांधेगें और चमड़े के जूते पहनेंगे. उन्होंने यहां तक की छाते से सिर ना ढकने की प्रतिज्ञा भी ली थी. अब अपने पूर्वज की प्रतिज्ञा पूरी होते देख सूर्यवंशी क्षत्रिय पगड़ी बांट रहे हैं और बांध रहे हैं. अयोध्या और उसके आस-पास लगभग 105 गांवों में सूर्यवंशी क्षत्रिय रहते हैं. सूर्यवंशी क्षत्रिय अपने आपको भगवान राम का वंशज बताते हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उन्होंने जमकर उत्सव मनाया और पगड़ियां बांटी.

बताया गया है कि अब तक 400 पगड़ी बांटी जा चुकी हैं. इन 105 गांवों में लगभग डेढ़ लाख क्षत्रियों के रहने का अनुमान है. गांव वासियों ने बताया कि सूर्यवंशी क्षत्रियों ने पिछले 500 साल में शादी में, किसी और उत्सव में पगड़ी नहीं बांधी. यहां तक की पंचायत का भी सिर खुला रखता था. हालांकि जूतों में उन्होंने केवल चमड़े के जूते का संकल्प लिया था. 16 वीं सदी में चमड़े के जूते बनाकरते थे. इस कारण केवल चमड़े के जूतों का विरोध था. लेकिन अब इन जूतों को भी पहनने पर से पाबंदी हटा दी गई है. 105 गांवों के सूर्यवंशी क्षत्रियों ने कहा कि वे सभी सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हैं और अब केवल मंदिर बनने का इंतजार कर रहे हैं.

Also read, ये भी पढ़ें: Yogi Adityanath Government Change Agra Name: यूपी में योगी सरकार आगरा का नाम बदलकर रखेगी अग्रवन, ऐतिहासिक पहलुओं पर कर रहे गौर

Ayodhya Verdict: अयोध्या फैसले पर पुर्नविचार याचिका दाखिल करने जा रहे असदुद्दीन ओवैसी और जफरयाब जिलानी साहब आप देश के मुसलमान को आगे बढ़ने से रोक रहे हैं

SC Judge Adul Nazeer Death Threat: अयोध्या केस पर फैसला सुनाने वाले सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अब्दुल नजीर की जान को खतरा, सरकार ने दी जेड श्रेणी की सुरक्षा

AIMPLB Review Petition On SC Ayodhya Verdict: अयोध्या फैसले पर सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, मस्जिद के लिए दूसरी जगह जमीन मंजूर नहीं