नई दिल्ली/ सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण शुरू हुआ. राम मंदिर निर्माण के लिए निधि अभियान के तहत ढाई हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की धन राशि एकत्रित की गई,तो वहीं मस्जिद निर्माण के लिए कोई डोनेशन देने के लिए तैयार ही नहीं है. हालांकि इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने किसी भी तरीके का कोई अभियान भी नही चलाया जिससे उन्हें मस्जिद निर्माण के लिए राशि मिले.

इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन  के प्रवक्ता अतहर हुसैन ने बताया कि मस्जिद निर्माण के लिए अभी तक सिर्फ 20 लाख रुपए की धन राशि एकत्रित की गई है. हालांकि वो भी राशि हमने मांगी नहीं है खुद अपनी इच्छा से लोगों ने दी है. अतहर हुसैन ने कहा कि जब तक 80-G का सर्टिफिकेट मस्जिद को नहीं मिल जाता, तब तक वह किसी से भी मस्जिद निर्माण और स्पेशलिटी हॉस्पिटल के लिए दान नहीं लेंगे. 80-G सर्टिफिकेट आयकर काननू का वह सेक्शन है, जो विदेशों से आर्थिक सहयोग देने वाले लोगों को आयकर में छूट प्रदान करता है. बता दें कि आयकर कानून का सेक्‍शन 80-G किसी ट्रस्ट, चैरिटेबल संस्था या कुछ निश्चित रिलीफ फंड्स में दान देकर टैक्स कटौती का लाभ पाने का विकल्प उपलब्ध कराता है. जिसका फायदा व्यक्तिगत आयकर, कोई कंपनी या एनआरआई भी उठा सकते हैं.

इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के प्रवक्ता अतहर हुसैन ने आगे कहा कि जब तक हम 80-G की छूट नहीं मिल जाती, तब तक विदेशों से सहायता नहीं ले सकते है. 80-G का सर्टिफिकेट मिलने के बाद हम विदेशों से आर्थिक सहयोग के लिए आवेदन करेंगे. अतहर हुसैन ने कहा कि हमारा मुख्य उद्देश्य 5 एकड़ की भूमि में सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनाना है और वह अस्पताल 200 बेडों से लैस होगा. जिसमे एक बेड की कीमत लगभग 50 लाख रुपए आएगी. इस अस्पताल को बनाने में करीब 100 करोड़ रूपए की लागत लगेगी.

Rashmika Mandanna Dance Video: रश्मिका मंदाना नेशनल क्रश सेलिब्रेट कर रही है अपना 25वां जन्मदिन, शेयर किया वीडियो

Papmochani Ekadashi 2021: जानिए कब है पाप मोचनी एकादशी? ब्रह्म मुहूर्त में करें भगवान विष्णु की आराधना

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर