नई दिल्ली. Ayodhya Ram Mandir Construction Inauguration Possible Date, Ram Mandir Construction Beginning Date, Ram Temple Construction Starting: अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद केस में सु्प्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने CJI रंजन गोगोई की अध्यक्षता में ऐतिहासिक फैसला सुना दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने रामलला विराजमान को जमीन का मालिकाना हक सौंपा है और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है जिसे ये जमीन दी जाएगी और वो ट्रस्ट अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण करेगा. सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या केस में निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी वक्फ बोर्ड के दावा को खारिज करते हुए सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन मस्जिद बनाने के लिए देने का आदेश दिया है.

अब जब सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का रास्ता खोल दिया है तो फिर अब उस संभावित तारीख की बात करते हैं जिस दिन हमारा अनुमान है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर बनाने का काम शुरू करवा सकते हैं और मंदिर का उद्घाटन कर सकते हैं. जो लोग नरेंद्र मोदी के स्टाइल को जानते हैं वो ये मानते हैं कि मोदी एक ग्लोबल इवेंट मैनेजर के तौर पर खुद को कई बार साबित कर चुके हैं.

 9 नवंबर 1989 को आज ही के दिन हुआ था राम मंदिर का शिलान्यास, ठीक 30 साल बाद सुप्रीम कोर्ट सुनाने जा रहा है एतिहासिक फैसला

नरेंद्र मोदी की राजनीति, चुनावी कौशल और सही समय पर सही तीर चलाने की अदा का भारतीय राजनीति में हर कोई कायल है. विपक्षी जब तक बीजेपी या मोदी की किसी चाल पर काउंटर खोजते हैं तब तक मोदी एक नई चाल चल देते हैं जिससे विरोधी चित हो जाते हैं.

2024 के चुनावों से पहले भव्य राम मंदिर बनाकर पीएम नरेंद्र मोदी की बीजेपी लड़ेगी लोकसभा चुनाव

तो अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्टाइल और अदा के हिसाब से जो एक अनुमानित तारीख अयोध्या में राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू करने और राम मंदिर बनाने के बाद उसका उद्घाटन करने की नजर आती है वो है 9 नवंबर. बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राजनीति को 9 नवंबर, 2020 को मंदिर निर्माण कार्य शुरू करने के लिए सबसे मुफीद हो सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत, कहा- न्यायिक प्रक्रियाओं में जन सामान्य के विश्वास को करेगा और मजबूत

ये वो समय होगा जब कुछ समय पहले बिहार में विधानसभा के चुनाव हो रहे होंगे. वहीं अयोध्या राम मंदिर के उद्घाटन की तारीख 9 नवंबर 2023 हो सकती है जिसके कुछ महीने बाद देश में 2024 का लोकसभा चुनाव होगा. 

सुप्रीम कोर्ट का अयोध्या में राम मंदिर बनाने का फैसला- केंद्र सरकार तीन महीने में ट्रस्ट बनाए, ट्रस्ट बनाए रामलला का मंदिर

अयोध्या राम मंदिर निर्माण शुरू करने और उद्घाटन का 9 नवंबर से ऐतिहासिक कनेक्शन

अब आप कहेंगे कि हम 9 नवंबर पर क्यों अटक गए हैं तो अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए 9 नवंबर एक ऐतिहासिक तारीख है. ठीक 30 साल पहले 9 नवंबर 1989 को अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास यानी शिला पूजन हुआ था. इसी दिन से हिंदुओं ने रामलला की निर्बाध पूजा शुरू की. राजीव गांधी की सरकार के सहयोग से विश्व हिंदू परिषद ने राम मंदिर का शिलान्यास किया था. इसके बाद मंदिर में पूजा पाठ शुरू हुई थी. इस लिहाज से हिंदुओं के लिए यह तारीख काफी मायने रखती है.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला- रामलला की जीत, ट्रस्ट अयोध्या में बनाएगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को दूसरी जमीन, शिया वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा का दावा खारिज

और संयोग देखिए कि 134 साल पुराने राम जन्मभूमि केस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी 9 नवंबर, 2019 को आया है. अगर 9 नवंबर को नजरअंदाज किया जाता है तो दूसरी सुटेबल तारीख 2023 की रामनवमी हो सकती है जो 29 अप्रैल, 2023 को है. ये भी ना पसंद आए तो तीसरी सुटेबल डेट 23 अक्टूबर, 2023 की दशहरा हो सकती है जिस दिन विजयादशमी का पर्व भी मनाया जाता है.

अयोध्या केस में मुसलमान पक्ष बोला- सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान, सुन्नी वक्फ बोर्ड संतुष्ट नहीं, फैसले के खिलाफ अपील पर फैसला बाद में, शांति की अपील

राम मंदिर आंदोलन से ही बीजेपी बनी सबसे बड़ी पार्टी और फिर बनी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार

बीजेपी के लिए राम मंदिर का मुद्दा कितना बड़ा है यह बताने की जरूरत नहीं है. कभी 2 सासंदों की पार्टी रही बीजेपी ने लालकृष्ण आडवाणी की अगुवाई में देश भर में राम मंदिर के निर्माण के लिए देशव्यापी रथयात्रा निकाली थी. 6 दिसंबर 1992 को कारसेवकों ने बाबरी मस्जिद का ढांचा तोड़ दिया था. इसके बाद देश का माहौल बदल गया. बीजेपी भारतीय राजनीति का दूसरा पक्ष हो गई और उसके बाद ही बीजेपी देश की सबसे बड़ी पार्टी बन सकी और फिर अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में पहली बार एनडीए की सरकार बनी.

अयोध्या में बनेगा भव्य राम मंदिर, सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कही ये दस बड़ी बातें

अब जब सुप्रीम कोर्ट के फैसले से साफ हो गया है कि अयोध्या में राम मंदिर बनेगा तो साफ है कि बीजेपी 2024 के लोकसभा चुनावों में मंदिर निर्माण का वादा घोषणा पत्र में नहीं डाल सकती. ऐसे में वह मंदिर निर्माण की उपलब्धि लेकर चुनाव में श्रेय के साथ जाना चाहेगी. पीएम मोदी अयोध्या राम मंदिर निर्माण को मेगा इवेंट बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे. ऐसे में पीएम मोदी देश की राजनीति के सबसे मेगा इवेंट लोकसभा चुनाव 2024 से पहले राम मंदिर का उद्घाटन करना चाहेंगे और उसके लिए 9 नवंबर, 2023 सबसे सुटेबल तारीख है.

गृहमंत्री अमित शाह ने अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बताया मील का पत्थर, कहा- दशकों पुराने विवाद को मिला अंतिम रूप

One response to “Ayodhya Ram Mandir Construction Inauguration Possible Date: क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर 2023 को अयोध्या राम मंदिर का उद्घाटन कर लोकसभा चुनाव 2024 में बीजेपी के प्रचार का शंखनाद करेंगे ?”

  1. कोर्ट का दिया हुआ फैसला सराहनीय है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App