नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट आज अयोध्या भूमि विवाद मामले में बहुप्रतीक्षित फैसला सुना दिया है. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ द्वारा अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद शीर्षक मुकदमे में सुबह 10:30 बजे अपना फैसला सुनाना शुरू किया. सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में कहा है कि विवादित 2.77 एकड़ जमीन पर राम मंदिर का निर्माण होगा. कोर्ट ने मंदिर बनाने के लिए सरकार को 3 महीने में ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है. वहीं कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष को नमाज पढ़ने के लिए विवादित जमीन से अलग 5 एकड़ जमीन देने का फैसला किय है. इसके अलावा निर्मोही अखाड़ा और शिया वक्फ बोर्ड के दावे को चीफ जस्टिस ने खारिज कर दिया. सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला पांचों जजों की सर्वसम्मति से लिया गया है.

शनिवार सुबह अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले, शांति बनाए रखने के लिए पूरे भारत में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. जबकि देश भर में सेनाएं अलर्ट पर हैं, फैसले के मद्देनजर उत्तर प्रदेश और विशेष रूप से अयोध्या में विस्तृत व्यवस्था की गई है. यूपी, दिल्ली, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और जम्मू और कश्मीर में सभी स्कूल, कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे. उत्तर प्रदेश, जम्मू और कश्मीर और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में धारा 144 लगाई गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में अयोध्या के फैसले से पहले शांति की अपील की. पीएम मोदी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट जो भी फैसला करेगा वह किसी भी पार्टी के लिए नुकसान या जीत नहीं होगा और हर कीमत पर सामंजस्य बनाए रखना होगा.

सुप्रीम कोर्ट की आधिकारिक वेबसाइट पर शुक्रवार की देर शाम एससी पीठ द्वारा निर्णय सुनाए जाने के संबंध में एक नोटिस अपलोड किया गया. बेंच के अन्य सदस्य जस्टिस एसए बोबडे, डी वाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस अब्दुल नाज़ेर हैं. सुप्रीम कोर्ट की खंडपीठ ने 16 अक्टूबर को मैराथन 40 दिनों की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था. इसी के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी हैं.

यहां पढ़ें Ayodhya Ram Mandir Babri Masjid Supreme Court Verdict Social Media Reactions Live Updates:

Live Blog

शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद का बयान

शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद ने कहा, हम विनम्रतापूर्वक एससी के फैसले को स्वीकार करते हैं, मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं कि मुसलमानों ने और बड़े लोगों ने इस फैसले को स्वीकार किया है और विवाद अब समाप्त हो गया है. हालांकि इसकी उनकी (मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड) समीक्षा याचिका दायर करने का अधिकार है, मुझे लगता है कि मामला अभी समाप्त होना चाहिए.

मुरली मनोहर जोशी ने कहा,

इंडिया न्यूज़ से बातचीत में बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला निर्णय ही नहीं, न्याय भी है, अबतक के विवाद का निपटारा हो गया है, इसे हिन्दू मुस्लिम में बांटकर नहीं देखना चाहिए, राम इमामे हिंद है, इससे देश का विकास होगा.

राज ठाकरे: मैं खुश हूं

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा, मैं आज खुश हूं. पूरे संघर्ष के दौरान बलिदान देने वाले सभी

औवेसी ने कहा,

ओवैसी ने कहा, कांग्रेस ने अपना असली रंग दिखा दिया है, लेकिन कांग्रेस पार्टी के धोखेबाज और पाखंडियों के लिए, मूर्तियों को 1949 में नहीं रखा गया होगा, अगर राजीव गांधी द्वारा ताले नहीं खोले जाते, तो मस्जिद अब भी होती, नरसिम्हा राव ने अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया होता जो अब भी मस्जिद वहां होती.

अजमेर शरीफ़ दरगाह दीवान ने किया फैसले का स्वागत

अयोध्या के फैसले पर सैयद ज़ैनुल आबेदीन, अजमेर शरीफ़ दरगाह दीवान ने कहा, यह किसी की जीत या हार नहीं है. हमें सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को स्वीकार करना चाहिए, जो कुछ भी हुआ है, वह राष्ट्र के हित में है और हमें विवाद का अंत यहीं करना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से असदुद्दीन ओवैसी नाखुश

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, फैसले से संतुष्ट नहीं सुप्रीम कोर्ट वास्तव में सर्वोच्च है लेकिन अचूक नहीं है. हमें संविधान पर पूरा भरोसा है, हम अपने हक के लिए लड़ रहे थे, हमें दान के रूप में 5 एकड़ जमीन की जरूरत नहीं है. हमें इस 5 एकड़ भूमि के प्रस्ताव को अस्वीकार करना चाहिए, हमें संरक्षण नहीं देना चाहिए.

उमा भारती ने कहा,

बीजेपी नेता, उमा भारती ने अयोध्या फैसले पर कहा, कोर्ट ने एक निष्पक्ष किंतु दिव्य निर्णय दिया है. मैं आडवानी जी के घर में उनको माथा टेकने आई हूं, आडवानी जी ही वो व्यक्ति थे जिन्होंने छद्म धर्मनिरपेक्षता को चैलेंज किया था. उनकी ही बदौलत आज हम यहां तक पहुंचे हैं.

बाबा रामदेव ने जताई खुशी

बाबा रामदेव ने कहा, यह एक ऐतिहासिक फैसला है. भव्य राम मंदिर बनेगा. मुस्लिम पक्ष को वैकल्पिक भूमि आवंटित करने का निर्णय स्वागत योग्य है, मेरा मानना है कि हिंदू भाइयों को मस्जिद के निर्माण में भी मदद करनी चाहिए.

श्री श्री रविशंकर ने कहा- सुप्रीम कोर्ट के फैसले से दोनों समुदाय का सम्मान बरकरार

श्री श्री रविशंकर ने कहा, 'हम माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का स्वागत करते हैं. इस निर्णय ने दोनों समुदायों के सम्मान को बनाए रखा है. इसमें न किसी की जीत है, न किसी कि हार है, बल्कि इससे भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है.

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा- दशकों पुराने कानूनी विवाद को मिला अंतिम रूप

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, 'दशकों से चले आ रहे श्री राम जन्मभूमि के इस कानूनी विवाद को आज इस निर्णय से अंतिम रूप मिला है. मैं भारत की न्याय प्रणाली व सभी न्यायमूर्तियों का अभिनन्दन करता हूं.

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा- SC का फैसला मील का पत्थर होगा साबित

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, 'मुझे पूर्ण विश्वास है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिया गया यह ऐतिहासिक निर्णय अपने आप में एक मील का पत्थर साबित होगा है. यह निर्णय भारत की एकता, अखंडता और महान संस्कृति को और बल प्रदान करेगा'.

कांग्रेस ने कहा- हम राम मंदिर निर्माण के पक्ष में हैं

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया है, हम राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में हैं. इस फैसले ने न केवल मंदिर के निर्माण के लिए दरवाजे खोले बल्कि इस मुद्दे का राजनीतिकरण करने के लिए भाजपा और अन्य लोगों के लिए दरवाजे भी बंद कर दिए'.

लोग एक दूसरे को दे रहे बधाई

सुप्रीम कोर्टे के फैसले के बाद लोगों एक दूसरे को बधाई दे रहे हैं. यूजर ने लिखाा कि वह फैसले से बहुत खुश है और देश के सभी हिन्दुओं को बधाई देते हैं.

'अलग वाली जमीन पर बनाएं हॉस्पिटल'

ट्विटर पर लोग कह रहे हैं कि, हम हमेशा रामजन्मभूमि के स्थान पर अयोध्या में राममंदिर का निर्माण करना चाहते थे, लेकिन तथाकथित उदारवादी और वामपंथी हमेशा अस्पताल चाहते थे. इसलिए अब वे 5 एकड़ भूमि पर अब अस्पताल का निर्माण कर सकते हैं.

#MandirwahiBanega हो रहा ट्रेंड

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ट्विटर पर #MandirwahiBanega ट्रेंड करने लगा है.

जफरयाब जिलानी ने कहा कि दायर करेंगे अपील

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जिलानी ने कहा कि अगर हमारी समिति इस पर सहमत होती है, तो हम एक समीक्षा याचिका दायर करेंगे. यह हमारा अधिकार है और यह सर्वोच्च न्यायालय के नियमों में भी है.

राम मंदिर पर फैसले को लोग कर रहे अटल, आडवाणी को याद

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया है. विवादित जमीन पर रमलला का दावा बरकरार है और मुस्लिम पक्ष को अलग से जमीन देने का फैसला किया गया है. लोग इस फैसले पर दिवंगत पू्र्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी, भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, अशोक सिंघल को धन्यवाद कर रहे हैं.

लोग कर रहे शांति की अपील

अयोध्या मामले के फैसले पर लोग शांति की अपील कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि चाहे मंदिर बने या मस्जिद बने...है तो भारत की भूमि! हिन्दू हो या मुस्लिम आज सबको यह नहीं लग रहा कि जीत किसकी हुई है बल्कि यह भावना है कि इतने बड़े विवाद का कम से कम हल तो निकला!
धन्यवाद माननीय सर्वोच्च न्यायालय जी.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फैसले को बताया ऐतिहासिक

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अयोध्या मामले पर फैसले को ऐतिहासिक बताया है.

इकबाल अंसारी ने कहा- हम फैसले का सम्मान करते हैं

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा, 'मुझे खुशी है कि सुप्रीम कोर्ट ने आखिरकार फैसला सुनाया, मैं अदालत के फैसले का सम्मान करता हूं.'

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बोले- सभी इसका सम्मान करें और शांति बनाए रखें.

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला आ चुका है. फैसले के मुताबिक रमलला का दावा बरकरार है और वहां राम मंदिर बनेगा. वहीं मुस्लिम पक्ष को नमाज पढ़ने के लिए अलग से जमीन दी जाएगी. एससी के फैसले पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि लोग सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करें और शांति बनाए रखें.

बिहार के सीएम नितीश कुमार ने कहा- SC के फैसले का सभी स्वागत करें

बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सभी को स्वागत करना चाहिए, यह सामाजिक समरसता के लिए फायदेमंद होगा. इस मुद्दे पर कोई और विवाद नहीं होना चाहिए, यही मेरी लोगों से अपील है.

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने जफरयाब गिलानी ने कहा- हम संतुष्ट नहीं

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने जफरयाब गिलानी ने कहा है कि वह अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन वह इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं. हम आगे की कार्रवाई के बारे में सोचेंगे.

सोशल मीडिया यूजर शेयर कर रहें तस्वीरें

अयोध्या मामले पर सु्प्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सोशल मीडिया पर जनता अपनी अपनी प्रतिक्रियाएं दे रही है. इस एतिहासिक फैसले पर लोग सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद दे रहे हैं.

जनता बोली- भाजपा ने पूरे किए अपने वादे

सोशल मीडिया यूजर ने ट्वीट किया कि भाजपा ने अपने वादों को पूरा कर दिखाय है. लोग पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को बधाई दे रहे हैं. लोगों का कहना है कि उनका वोट खराब नहीं गया है.

लोग बोले- मंदिर वहीं बन गया

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला आ चुका है. फैसले के मुताबिक रमलला का दावा बरकरार है और वहां राम मंदिर बनेगा.

लोग बोले- मंदिर वहीं बनाएंगे

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला आ चुका है. फैसले के मुताबिक रमलला का दावा बरकरार है और वहां राम मंदिर बनेगा. वहीं मुस्लिम पक्ष को नमाज पढ़ने के लिए अलग से जमीन दी जाएगी.
के बाद ट्विटर पर लोगों अपनी प्रतिक्रयाएं दे रहे हैं.

भाजपा प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंंह बग्गा का बयान

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया है. भाजपा प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने कहा है कि राम लल्ला को मिली जमीन, बनेगा भव्य राम मंदिर. सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई. केंद्र सरकार मुस्लिम भाइयो को मस्जिद बनाने के लिए वैकल्पिक जमीन देगी.

सोशल मीडिया पर जनता दे रही अपनी प्रतिक्रिया

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर फैसला सुना दिया है. फैसले में कहा गया है कि रामलला का दावा बरकरार है. मुस्लिम पक्ष को नमाज के लिए अलग से जमीन दी जाएगी. फैसले के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रियाएं देना शुरू कर दिया है.

अभिनेता फरहान अख्तर ने की शांति की अपील

बॉलीवुड अभिनेता फरहान अख्तर ने कहा कि सभी संबंधितों से विनम्र निवेदन, कृपया आज अयोध्या मामले पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का सम्मान करें. इसे अनुग्रह के साथ स्वीकार करें यदि यह आपके लिए या आपके खिलाफ जाता है. हमारे देश को एक व्यक्ति के रूप में इससे आगे बढ़ने की जरूरत है.

लोग सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे अपनी प्रतिक्रियाएं

आयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ड फैसला सुना रहा है. वहीं ट्विटर पर लोग अब मीम्स और अपनी प्रतिक्रियाएं शेयर कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट के वकील ऋषिकेश यादव का बयान

सुप्रीम कोर्ट में वकील ऋषिकेश यादव ने आयोध्या मामले पर कहा कि हिंदुओं की आस्था और विश्वास कि राम का जन्म अयोध्या में हुआ था, निर्विवाद है.

MLA लक्ष्मी हेबालकर ने की शांति की अपील

बेलगावी रुरल से एमएलए लक्ष्मी हेबालकर ने कहा कि वह सभी से अनुरोध करती हूं
कि अयोध्या पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का सम्मान करें, और शांति और सद्भाव बनाए रखें.

अधीर रंजन चौधरी का बयान

लोकसभा में कांग्रेस के नेता, अधीर रंजन चौधरी ने कहा, हम शंति के पक्ष में शुरू से हैं, मैं शांति का पुजारी हूं. हम सभी को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करना चाहिए.

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का बयान

अयोध्या फैसले पर उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, मैं उत्तराखंड के लोगों से अपील करता हूं कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा जो भी फैसला दिया जाए उसे स्वीकार करें. सोशल मीडिया या अन्य प्लेटफार्मों पर कोई अफवाह या आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं की जानी चाहिए जो सामाजिक सद्भाव पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है.

नीतीश कुमार का बयान

अयोध्या फैसले पर बिहार के मुख्यमंत्री, नीतीश कुमार ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सभी को मानना चाहिए, इस पर कोई विवाद नहीं होना चाहिए. हम सभी से अपील करते हैं कि नकारात्मक माहौल न बनाएं, सौहार्द बनाए रखा जाए.

उद्धव ठाकरे का बयान

उद्धव ठाकरे ने कहा, हमने सरकार से राम मंदिर (अयोध्या में) के निर्माण पर एक कानून बनाने का अनुरोध किया था, लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया. अब, जब सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाने जा रहा है, सरकार इसका श्रेय नहीं ले सकती (यहां तक कि) अगर फैसला समर्थक मंदिर पक्ष का पक्ष लेते हैं.

प्रियंका गांधी का बयान

प्रियंका गांधी ने ट्वीट करके कहा, जैसा कि आप सबको पता है, अयोध्या मामले पर आज उच्चतम न्यायालय का फैसला आने वाला है. इस घड़ी में न्यायालय का जो भी निर्णय हो, देश की एकता, सामाजिक सद्भाव, और आपसी प्रेम की हज़ारों साल पुरानी परम्परा को बनाए रखने की ज़िम्मेदारी हम सबकी है. ये महात्मा गांधी का देश है. अमन और अहिंसा के संदेश पर क़ायम रहना हमारा कर्तव्य है.

जॉइंट सीपी, आईडी शुक्ला का बयान

आईडी शुक्ला, जॉइंट सीपी ने अयोध्या फैसले से पहले कहा, दिल्ली पुलिस ने अर्धसैनिक बल की मदद से उचित सुरक्षा उपाय किए हैं. इसमें किसी तरह की गड़बड़ी का सवाल नहीं है, चाहे वह सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट की सुरक्षा हो या वीआईपी-वीवीआईपी की सुरक्षा हो, इसका उल्लंघन नहीं किया जा सकता.

जॉइंट सीपी, आईडी शुक्ला का बयान

आईडी शुक्ला, जॉइंट सीपी ने अयोध्या फैसले से पहले कहा, दिल्ली पुलिस ने अर्धसैनिक बल की मदद से उचित सुरक्षा उपाय किए हैं. इसमें किसी तरह की गड़बड़ी का सवाल नहीं है, चाहे वह सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट की सुरक्षा हो या वीआईपी-वीवीआईपी की सुरक्षा हो, इसका उल्लंघन नहीं किया जा सकता.

अयोध्या के जिलाधिकारी, अनुज कुमार झा का बयान

अयोध्या के जिलाधिकारी, अनुज कुमार झा ने कहा, विवादित स्थल को सुरक्षित रखना हमारी प्राथमिकता है, हमने इसके लिए पर्याप्त इंतजाम किए हैं, शहर में सेना तैनात की गई है. शहर में सब कुछ सामान्य है, हम नकारात्मक तत्वों पर नजर रखेंगे.

एडीजी (अभियोजन) यूपी पुलिस, आशुतोष पांडेय ने कहा

एडीजी (अभियोजन) यूपी पुलिस, आशुतोष पांडेय ने कहा, भक्त श्री राम लल्ला के मंदिर के दर्शन कर रहे हैं. मंदिर जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं हैं. सभी बाजार खुले हैं, स्थिति पूरी तरह से सामान्य है. अर्धसैनिक बल,आरपीएफ और पीएसी की 60 कंपनियां और 1200 पुलिस कांस्टेबल, 250 सब-इंस्पेक्टर, 20 उप-एसपी और 2 एसपी तैनात हैं. सुरक्षा निगरानी के लिए डबल लेयर बैरिकेडिंग, सार्वजनिक पता प्रणाली, 35 सीसीटीवी और 10 ड्रोन तैनात हैं.

ओडिशा के मुख्यमंत्री, नवीन पटनायक ने कहा,

ओडिशा के मुख्यमंत्री, नवीन पटनायक ने अयोध्या फैसले से पहले कहा, माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को स्वीकार करने के लिए सभी से अपील. आइए हम शांति और सद्भाव में रहें. भाईचारे की भावना हमारे धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने की पहचान है.

एसएसपी नोएडा ने ट्विटर पर लिखा...

सभी 10 पुलिस स्टेशनों / पुलिस अधिकारियों / पुलिस कार्यालयों की शाखाओं में 10 मिनट का ड्रिल किया गया, जिसमें पुलिस को केवल 10 मिनट में जुटने के लिए जागरूक किया गया.

मीडिया को संबोधित करेंगे मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत आज दोपहर 1 बजे अयोध्या भूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मीडिया को संबोधित करेंगे.

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), ओपी सिंह का बयान

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), ओपी सिंह ने कहा, हमने विश्वास निर्माण के उपाय किए हैं, हमने राज्य भर में लगभग 10,000 बैठकें धार्मिक नेताओं और नागरिकों के साथ कीं. हम राज्य के लोगों से सोशल मीडिया पर अफवाह नहीं फैलाने की अपील कर रहे हैं. अयोध्या में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है, हवाई निगरानी की जा रही है. खुफिया तंत्र को तैयार किया गया है, यादृच्छिक जांच भी हो रही है. ऑपरेशनों पर नजर रखने के लिए अयोध्या में एक एडीजी रैंक के अधिकारी को तैनात किया गया है.

योगी आदित्यनाथ ने की शांती की अपील

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, मेरी प्रदेशवासियों से अपील है कि अफवाहों पर ध्यान न दें. प्रशासन सभी की सुरक्षा व प्रदेश में कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पूरी तरह कटिबद्ध है. कोई भी व्यक्ति यदि कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी.

न्यायपालिका पर भरोसा: नितिन गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, हमें अपनी न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है. मैं सभी से सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करने और शांति बनाए रखने की अपील करता हूं

आशा है कि सुप्रीम कोर्ट ऐसा फैसला दोगा जो सभी के लिए स्वीकार्य होगा: उज्ज्वल निकम

सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या मामले में अपना फैसला सुनाए जाने के एक दिन पहले विशेष लोक अभियोजक उज्ज्वल निकम ने कहा कि वह एक ऐसे फैसले की उम्मीद कर रहे थे जो समाज के सभी वर्गों के लिए स्वीकार्य होगा. निकम ने कहा, मुझे उम्मीद है कि सर्वोच्च न्यायालय एक फैसला सुनाएगा, जो सभी को मान्य होगा.

पीएम मोदी ने मंत्रियों से कहा- अयोध्या पर कोई अनावश्यक बयान नहीं, सौहार्द बनाए रखें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या मुद्दे पर अपने मंत्रिपरिषद को अनावश्यक बयान देने से आगाह किया है. इस सप्ताह की शुरुआत में, बीजेपी और आरएसएस के सदस्यों ने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के आवास पर मुस्लिम बुद्धिजीवियों और मौलवियों से मुलाकात की और जोर देकर कहा कि फैसला जिस भी तरीके से हो, अत्यधिक जश्न या शोक से बचना चाहिए.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App