नई दिल्ली. भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई वाली सुप्रीम कोर्ट की पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ कल यानि 9 नवंबर को महत्वपूर्ण राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले में अपना फैसला सुनाएगी. इस संवेदनशील मामले में प्रतिदिन की सुनवाई 06 अगस्त 2019 को शुरू हुई. हालांकि शीर्ष अदालत के इशारे पर स्थापित मध्यस्थता पैनल, हितधारकों के बीच आम सहमति बनाने में विफल रहा. सुप्रीम कोर्ट इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख चुका है. कल सीजीआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ इस मामले में अपना फैसला सुनाएगी. राज्य और केंद्र सरकार द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिए कई उपाय किए गए हैं कि अयोध्या के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के आसपास के जिलों में शांति और व्यवस्था बनी रहे. राजनीतिक दलों ने भी शांत रहने की अपील की है और नागरिकों से शीर्ष अदालत के फैसले का सम्मान करने का अनुरोध किया है.

Ayodhya Ram Janmbhoomi Babri Masjid Verdict Timeline, जानें अयोध्या मामले की महत्वपूर्ण घटनाएं:

  • साल 1527: मुगल बादशाह बाबर ने भारत पर आक्रमण किया, कई राजाओं को हराया और अपने क्षेत्रों पर अधिकार कर लिया.
  • साल 1528: बाबर के वाइसराय जनरल मीर बाक़ी ने अयोध्या का दौरा किया और मस्जिद का निर्माण किया और इसे बाबरी मस्जिद के रूप में नामित किया.
  • साल 1853: विवादित भूमि पर हिंदू और मुसलमानों के बीच पहला संघर्ष शुरू हुआ. दोनों समुदायों ने जमीन पर कब्जे का दावा किया. ऐसे दावे हैं कि इस समय के आसपास सीता रसोई और राम चबूतरा (प्रांगण) बनाए गए थे.
  • साल 1859: ब्रिटिश शासकों ने मस्जिद स्थल पर कब्जा कर लिया और पूजा स्थलों को अलग करने के लिए एक बाड़ लगा दिया, जिससे मुसलमानों द्वारा अंदर का आंगन और हिंदुओं द्वारा बाहरी इस्तेमाल किया जा सके.
  • साल 1885: अदालती विवाद शुरू हुआ – महंत रघुबीर दास ने मामले में पहला मुकदमा दायर किया, मस्जिद से सटे भूमि पर मंदिर बनाने की मांग की. फैजाबाद के जिला मजिस्ट्रेट ने उसे अनुमति देने से इंकार कर दिया. इसके बाद, महंत रघुबीर दास ने भारत के राज्य सचिव के खिलाफ फ़ैज़ाबाद कोर्ट में एक शीर्षक मुकदमा दायर किया, जिसमें बाबरी मस्जिद के चबूतरा पर मंदिर बनाने की अनुमति मांगी गई थी. फैजाबाद कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी.

  • दिसंबर 1949: 22 दिसंबर की रात को, मस्जिद के अंदर एक राम की मूर्ति दिखाई दी. हिंदू आइडल की उपस्थिति को एक दिव्य रहस्योद्घाटन के रूप में देखा गया. हालांकि कई तर्क देते हैं कि रात में मूर्ति की तस्करी की गई थी. हिंदूओं ने प्रार्थना करना शुरू कर दिया. सरकार ने साइट को विवादित भूमि घोषित किया और प्रवेश द्वार को बंद कर दिया.
  • साल 1950: गोपाल सिमाला विह्रद और परमहंस रामचंद्र दास द्वारा फैजाबाद अदालत में दो मुकदमे दायर किए गए, जिसमें राम लल्ला को हिंदू पूजा करने की अनुमति दी गई. अदालत ने पक्षकारों को पूजा करने की अनुमति दी. अदालत ने अंदर के आंगन के फाटकों को बंद रखने का आदेश दिया.
  • साल 1959: निर्मोही अखाड़ा और महंत रघुनाथ ने जमीन पर कब्जा करने के लिए तीसरा मुकदमा दायर किया. उन्होंने स्थल पर पूजा (देवता को प्रसाद) के संचालन के लिए जिम्मेदार संप्रदाय होने का दावा किया.
  • साल 1961: यूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड ने बाबरी मस्जिद स्थल पर कब्जे के लिए मुकदमा दायर किया. बाबरी मस्जिद से राम की मूर्तियों को हटाने की भी मांग की गई क्योंकि यह दावा किया गया कि मस्जिद के आसपास का इलाका कब्रिस्तान था.
  • साल 1984: विश्व हिंदू परिषद के तत्वावधान में राम जन्मभूमि आंदोलन शुरू हुआ. भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी इस अभियान का नेतृत्व कर रहे थे.

  • 1 फरवरी 1986: एक तीसरे पक्ष – वकील यू सी पांडे ने फ़ैज़ाबाद सत्र न्यायालय से पहले फाटकों को अनलॉक करने की अपील की इस आधार पर कि फ़ैज़ाबाद जिला प्रशासन ने इसके बंद करने का आदेश दिया था ना कि कोर्ट ने. अदालत ने हिंदूओं को पूजा और दर्शन की अनुमति देने के लिए ताले को हटाने का आदेश दिया. मुसलमानों ने विरोध में एक बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी (बीएमएसी) का गठन किया.
  • 1980 के दशक में: भाजपा, विहिप के साथ, अयोध्या और देश के अन्य हिस्सों में विरोध प्रदर्शन का आयोजन करती रही.
  • 9 नवंबर 1989: प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विहिप को विवादित क्षेत्र के पास ‘शिलान्यास’ (राम मंदिर का शिलान्यास) करने की अनुमति दी.
  • साल 1989: सभी टाइटल सूट इलाहाबाद उच्च न्यायालय में स्थानांतरित हुए. इसमें निर्मोही अखाड़ा (1959) और सुन्नी वक्फ बोर्ड (1961) को राम लल्ला विराजमान द्वारा दायर एक अन्य मुकदमे में प्रतिवादी के रूप में दायर किया गया.
  • 25 सितंबर 1990: लालकृष्ण आडवाणी ने राम जन्मभूमि आंदोलन को समर्थन देने के लिए सोमनाथ (गुजरात) से अयोध्या तक रथ यात्रा शुरू की. सांप्रदायिक दंगे भड़के और एक भीड़ ने मस्जिद को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचाया.

  • साल 1991: भाजपा उत्तर प्रदेश में सत्ता में आई.
  • 6 दिसंबर 1992: बाबरी मस्जिद पर कारसेवकों की भीड़ भड़की. कारसेवकों ने इसके स्थान पर एक मेक-शिफ्ट मंदिर का निर्माण किया. इसने देश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक दंगों को जन्म दिया.
  • 16 दिसंबर 1992: मस्जिद के विध्वंस के 10 दिन बाद, प्रधान मंत्री पी वी नरसिम्हा राव ने बाबरी मस्जिद के विध्वंस और सांप्रदायिक दंगों के लिए अग्रणी परिस्थितियों पर ध्यान देने के लिए सेवानिवृत्त उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एम एस लिब्रहान के नेतृत्व में एक समिति बनाई.
  • 7 जनवरी 1993: राज्य ने अयोध्या भूमि का अधिग्रहण किया. नरसिम्हा राव सरकार ने 67.7 एकड़ भूमि (विवाद स्थल और आस-पास के क्षेत्र) प्राप्त करने के लिए एक अध्यादेश जारी किया. बाद में, इसे एक कानून के रूप में पारित किया गया. केंद्र सरकार द्वारा भूमि के अधिग्रहण की सुविधा के लिए, अयोध्या अधिनियम, 1993 में कुछ क्षेत्रों का अधिग्रहण किया.
  • साल 1994: सर्वोच्च न्यायालय ने 3: 2 के बहुमत से कुछ क्षेत्रों के अधिग्रहण की संवैधानिकता को बरकरार रखा. भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश, सीजेआई जे एस वर्मा के बहुमत के फैसले ने तर्क दिया कि प्रत्येक धार्मिक अचल संपत्ति का अधिग्रहण किया जा सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मस्जिद में नमाज की पेशकश इस्लाम के लिए अभिन्न नहीं थी जब तक कि मस्जिद का इस्लाम में कोई विशेष महत्व नहीं था. मस्जिद को गैर-जरूरी पूजा स्थल के रूप में मान्यता दिए जाने के फैसले की आलोचना की गई.

  • फरवरी 2002: वीएचपी ने घोषणा की कि वह 15 मार्च से मंदिर निर्माण नवीनतम शुरू कर देगा. सैकड़ों स्वयंसेवक इस स्थल पर जुटे. 27 फरवरी 2002 को, गुजरात में गोधरा के पास हिंसक भीड़ द्वारा साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन को जला दिया गया. हमले में कम से कम 59 लोग, जो अयोध्या से लौट रहे थे, मारे गए. इसके बाद गुजरात में एक तबाही हुई, जिसमें 1,000 से अधिक लोग मारे गए.
  • अप्रैल 2002: अयोध्या शीर्षक विवाद मामला शुरू हुआ. इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने अयोध्या शीर्षक विवाद की सुनवाई शुरू की. अदालत ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को आदेश दिया कि वह यह निर्धारित करने के लिए कि मस्जिद के नीचे कोई मंदिर है, उस जगह की खुदाई करें.
  • मार्च- अगस्त 2003: एएसआई ने विवादित स्थल के नीचे की जमीन की खुदाई की. इसमें 10 वीं सदी के हिंदू मंदिर के अवशेष पाए जाने का दावा किया गया है. मुसलमानों ने एएसआई की रिपोर्ट पर सवाल उठाए.
  • जुलाई 2005: संदिग्ध उग्रवादियों ने विस्फोटकों से लदी जीप का इस्तेमाल करते हुए विवादित स्थल पर हमला किया.
  • 30 जून 2009: 17 साल की देरी के बाद, लिब्रहान आयोग ने अपनी रिपोर्ट तत्कालीन प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह को सौंप दी, हालांकि इसकी सामग्री सार्वजनिक नहीं की गई. सरकार ने कमीशन के लिए 8 करोड़ रुपये खर्च किए.

  • नवंबर 2009: गृह मंत्री पी चिदंबरम ने संसद में रिपोर्ट पेश की. आयोग की रिपोर्ट में कहा गया कि बाबरी मस्जिद का विध्वंस योजनाबद्ध, व्यवस्थित था, और इसका उद्देश्य संघ परिवार और उसकी बहन सहयोगियों द्वारा सांप्रदायिक असहिष्णुता का माहौल बनाना था. रिपोर्ट में कुल 68 व्यक्तियों पर विध्वंस के लिए अलग-अलग केस हुए, जिनमें लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और अटल बिहारी वाजपेयी शामिल हैं.
  • 27 जुलाई 2010: सेवानिवृत्त नौकरशाह रमेश चद्रण त्रिपाठी ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के सामने याचिका दायर कर यह कहा कि वह शीर्षक विवाद मामले पर फैसला टाल दें और मध्यस्थता और सुलह के लिए विवाद को सुलझाने के लिए सभी वादकारियों को जाने दें.
  • 17 सितंबर 2010: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने त्रिपाठी की याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि याचिका में योग्यता की कमी थी. उसी महीने की 24 तारीख को सुप्रीम कोर्ट ने भी टालमटोल की याचिका खारिज कर दी.
  • 30 सितंबर 2010: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने तीन तरीकों से भूमि का विभाजन किया. उच्च न्यायालय ने तीन पक्षों के बीच भूमि को विभाजित करते हुए अपना फैसला सुनाया. सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लल्ला विराजमान को एक-एक तिहाई जमीन दी. हाई कोर्ट ने ध्वस्त बाबरी मस्जिद के गुंबद को आवंटित किया, जिसके तहत वर्तमान में अस्थायी मंदिर हिंदुओं के लिए है. पास के राम चबूतरा और सीता रसोई भी निर्मोही अखाड़े को गए. सुन्नी वक्फ बोर्ड के एक तिहाई हिस्से में विवादित भूमि का बाहरी आंगन शामिल है.
  • मई 2011: सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा. सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाओं के एक बैच को स्वीकार किया. जस्टिस आफतम आलम और आर एम लोढ़ा की खंडपीठ ने उच्च न्यायालय के फैसले को अजीब करार दिया. आरएम लोढ़ा ने इसका निरीक्षण किया.

  • 21 मार्च 2017: पूर्व मुख्य न्यायाधीश खेहर ने विवाद के निपटारे का सुझाव दिया.
  • 11 अगस्त 2017: सीजेआई दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और अब्दुल नजीर की तीन जजों की बेंच ने अपील पर सुनवाई शुरू की.
  • फरवरी- जुलाई 2018: याचिकाकर्ताओं का तर्क रहा कि सुप्रीम कोर्ट को 1994 के इस्माइल फारुकी के फैसले पर पुनर्विचार के लिए 7-न्यायाधीशों की खंडपीठ को संदर्भित करना चाहिए.
  • 20 जुलाई 2018: सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ी बेंच के पास अपील का संदर्भ देने के सवाल पर फैसला सुरक्षित रखा.
  • 27 सितंबर 2018: 2:1 के विभाजन में 3-जजों की बेंच ने फैसला दिया कि 1994 के इस्माइल फारुकी फैसले को एक बड़ी बेंच द्वारा पुनर्विचार की आवश्यकता नहीं है.

  • 8 जनवरी 2019: सीजेआई रंजन गोगोई ने 5-जज की संविधान पीठ के समक्ष मामले को सूचीबद्ध करने के लिए अपनी प्रशासनिक शक्तियों का इस्तेमाल किया, जिसकी अध्यक्षता सीजेआई ने की और जिसमें सितंबर 2018 के फैसले को पलटा. इसमें जस्टिस एस ए बोबडे, एन वी रमना, यू यू ललित और डी वाई चंद्रचूड़ शामिल थे.
  • 10 जनवरी 2019: न्यायमूर्ति यू यू ललित ने पुनर्विचार करते हुए सर्वोच्च न्यायालय को एक नई पीठ के समक्ष 29 जनवरी को होने वाली सुनवाई को रोकने के लिए कहा.
  • 25 जनवरी 2019: सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए 5 सदस्यीय संविधान पीठ का पुनर्गठन किया. नई पीठ में मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई और जस्टिस एस ए बोबडे, डी वाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस ए नाज़ेर शामिल थे.
  • 8 मार्च 2019: सुनवाई के 2 दिनों के बाद, संविधान पीठ ने कुछ प्रमुख पक्षों की आपत्तियों के बावजूद अदालत-निगरानी मध्यस्थता का आदेश दिया. मध्यस्थों में शीर्ष अदालत के पूर्व न्यायाधीश, न्यायमूर्ति एफएमआई कलीफुल्ला, अध्यक्ष, आध्यात्मिक नेता श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पंचू थे.
  • 2 अगस्त 2019: हिंदू और मुस्लिम दलों के बीच एक अंतिम समझौते का मध्यस्थता करने का प्रयास विफल रहा. सीजेआई की अगुवाई वाली संविधान पीठ ने 6 अगस्त से दिन-प्रतिदिन की अपील पर सुनवाई करने का फैसला किया.

  • 6 अगस्त 2019: संविधान पीठ ने विवादित 2.77-एकड़ रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि को राम लल्ला, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच तीनतरफा विभाजन को चुनौती देते हुए हिंदू और मुस्लिम पक्षों द्वारा दायर क्रॉस-अपीलों पर सुनवाई शुरू की.
  • 16 सितंबर 2019: मध्यस्थता पैनल सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट को बताया कि अयोध्या पक्ष फिर से बातचीत शुरू करना चाहता है.
  • 18 सितंबर 2019: अयोध्या की सुनवाई में राम चबूतरा केंद्र बिंदु बन गया. सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता समिति को वार्ता फिर से शुरू करने की अनुमति दी.
  • 15 अक्टूबर 2019: सुप्रीम कोर्ट ने मैराथन सुनवाई के 40 दिनों के बाद अयोध्या के फैसले को सुरक्षित रखा. सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मध्यस्थता पैनल ने निपटारे के दस्तावेज दाखिल किए.
  • 9 नवंबर 2019: सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस मामले पर सुरक्षित फैसला सुनाया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App