नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि बाबरी केस पर सुनवाई शुरू हो गई है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता में इस मामले की नियमित सुनवाई चल रही है. सोमवार को ईद की छुट्टी की वजह से आज सुनवाई हो रही है. रामलला की ओर से वरिष्ठ वकील के परासरन ने बहस की शुरुआत की. उन्होंने कहा  कि पूर्ण न्याय करना सुप्रीम कोर्ट के विशिष्ठ क्षेत्राधिकार में आता है. 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में अब राम मंदिर बाबरी मस्जिद विवाद पर नियमित सुनवाई हो रही है. सुप्रीम कोर्ट ने हिंदू और मुस्लिम पक्ष के बीच मध्यस्थता के लिए एक कमिटी गठित की थी. कई दिनों तक मध्यस्थता की कवायद चली लेकिन इससे बात नहीं बन पाई. सुप्रीम कोर्ट ने माना कि मध्यस्थता की कवायद फेल रही और उसके बाद शीर्ष कोर्ट ने नियमित सुनवाई का आदेश दे दिया था. अब एक सप्ताह में चार दिनों तक इस केस की सुनवाई हो रही है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में सुप्रीम कोर्ट की बेंच इस मामले को देख रही है.

 

पढ़ें लाइव अपडेट

Highlights

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: सुप्रीम कोर्ट ने इस केस की सुनवाई के दौरान पूछा था क्या राम के वंशज मौजूद हैं इस पर दिल्ली के अग्रवाल समाज ने खुद को राम का वंशज बताया है

दिल्ली के अग्रवाल समाज का दावा, हम हैं राम के वशंज दिल्ली के अग्रवाल समाज का दावा, हम हैं राम के वशंज

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन ने रामलला के वकील द्वारा पूरा दस्तावेज पढ़ने पर जताई आपत्ति

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन ने रामलला विराजमान के वकील एस वैद्यनाथन द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को पढ़ने पर आपत्ति जताई. इस पर सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा पीठ सुन रही है आपको क्या परेशानी है.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला विराजमान के वकील ने कहा- इस्लामिक शासन में मंदिर तोड़ा, हिंदुओं को जैसे मौका मिला पूजा शुरू हुई

रामलला विराजमान के वकील एस वैद्यनाथन ने कहा- हाई कोर्ट ने भी अपने फैसले में माना था कि मंदिर गिराकर मस्जिद बनाई गई थी. मंदिर इस्लामिक शासन के दौरान गिराई गई थी. उस दौरान हिंदू मंदिर नहीं बना सकते थे. लेकिन जैसे ही उन्हें मौका मिला उन्होंने पूजा शुरू कर दी.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: जस्टिस बोबड़े ने रामलला विराजमान के वकील से कहा- आपको कब्जा साबित करना होगा

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस बोबड़े ने रामलला विराजमान के वकीलों से कहा कि आपको जमीन पर अपना कब्जा साबित करना होगा. इस पर वकील ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी कब्जा साबित करने को कहा गया था लेकिन वो फेल रहे.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: जस्टिस बोबड़े ने रामलला विराजमान के वकील से पूछा- क्या भगवान (स्थान) का बंटवारा नहीं हो सकता

जस्टिस बोबड़े ने रामलला विराजमान के वकील से पूछा कि आप कहना चाहते हैं कि भगवान (स्थान) का बंटवारा नहीं हो सकता. इस पर रामलला विराजमान के वकील ने कहा हां भगवान का बंटवारा नहीं हो सकता. अगर ये माना जाता है कि यह भगवान की जगह है तो मस्जिद बनने से स्थान की मान्यता में कोई बदलाव नहीं आता.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: जस्टिस चंद्रचूड़ ने पूछा- क्या मस्जिद बनने से आपकी मान्यता में बदलाव नहीं आया

रामलला विराजमान के वकील के इस तर्क पर कि स्थान ही देवता है जस्टिस चंद्रचूड़ ने पूछा कि क्या मस्जिद बनने से आपकी आस्था में बदलाव नहीं आया. इस पर रामलला विराजमान के वकील ने कहा कि मस्जिद बनने से हमारी आस्था में कोई बदलाव नहीं आया क्योंकि भगवान तो वहां हमेशा से विराजमान हैं.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला के वकील ने कहा- हमारा नजरिया है कि स्थान देवता है और देवता को दो पक्षों में बांटा नहीं जा सकता

जस्टिस चंद्रचूड़ की टिप्पणी पर रामलला विराजमान के वकील एस वैद्यनाथन ने कहा हमारा नजरिया है कि स्थान देवता है और देवता का दो पक्षों में सामूहिक कब्जे में बंटवारा नहीं हो सकता.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: जस्टिस चंद्रचूड़़ ने कहा- दुनिया देखने का एक ही नजरिया नहीं हो सकता, हमें सभी पक्ष देखने होंगे

रामलला विराजमान के वकील से जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि आपका दुनिया देखने का नजरिया है लेकिन यह एकमात्र नजरिया नहीं हो सकता. हएक नजरिया ये है कि कि वहां हमे पूजा करने का हक मिलना चाहिए वहीं दूसरा नजरिया है कि स्थान खुद में ईश्वर है. हमें दोनों नजरिए देखने होंगे.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला विराजमान के वकील ने कहा- अदालत ने जब माना कि भगवान वहां विराजमान हैं तो दूसरे पक्ष को कब्जा देना ही गलत है

रामलला विराजमान के वकील एस वैद्यनाथन ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि एक तरफ कोर्ट भगवान को वहीं विराजमान मानती है वहीं दूसरी तरफ उन्हें संपत्ति का मालिक मानती है. वहीं एक तरफ कहती है कि इस पर दोनों पक्षों का सामूहिक कब्जा है. यह कैसे संभव है.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला विराजमान के वकील ने कहा- अदालत ने जब माना कि भगवान वहां विराजमान हैं तो दूसरे पक्ष को कब्जा देना ही गलत है

रामलला विराजमान के वकील एस वैद्यनाथन ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि एक तरफ कोर्ट भगवान को वहीं विराजमान मानती है वहीं दूसरी तरफ उन्हें संपत्ति का मालिक मानती है. वहीं एक तरफ कहती है कि इस पर दोनों पक्षों का सामूहिक कब्जा है. यह कैसे संभव है.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला विराजमान के वकील ने कहा- इलाहाबाद हाई कोर्ट के जजों में नहीं था तालमेल

सुप्रीम कोर्ट में रामलला विराजमान के वकील एस वैद्यनाथन ने इलाहाबाद हाई कोर्ट ने राम मंदिर बाबरी मस्जिद पर दिए गए फैसले का जिक्र करते हुए कहा कि वहां जजों में तालमेल नहीं था.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: सुप्रीम कोर्ट ने रामलला विराजमान से कहा- आप जमीन पर कब्जे के सबूत पेश करें

सुप्रीम कोर्ट ने रामलला विराजमान के वकीलों से कहा- आप सिर्फ सुन्नी वक्फ बोर्ड के दावे को खारिज कर रहे हैं अपने दावे को कैसे साबित करेंगे. आप जमीन पर कब्जे का सबूत पेश कीजिए.

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला के वकील ने कहा- मूर्ति हो या न हो हिंदू धर्म में स्थल को पवित्र माना जाता है

सुप्रीम कोर्ट में रामलला के वकील एस वैद्यनाथन ने कहा- हिंदू धर्म में मूर्ति हो या न हो स्थान को पवित्र माना जाता है. पर्वत की भी परिक्रमा होती है. वहीं मुस्लिम पक्ष ने कोई सबूत नहीं दिया है कि जमीन पर उनका मालिकाना हक है

Ram Mandir Babri Case SC Hearing Live: रामलला के वकील ने सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का जिक्र करते हुए कहा कहा- आस्था होना पर्याप्त है मूर्ति होना जरूरी नहीं

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर बाबरी मस्जिद विवाद पर सुनावाई जारी है. रामलला के वकील एस वैद्यनाथन ने कहा कि मंदिर के अस्तित्व के लिए मूर्ति का होना आवश्यक नहीं है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में भी माना था कि अगर लोगों की उस जगह को लेकर आस्था है तो वह सारी शर्तों को पूरा करता है.

Ayodhya Ram Janmbhoomi Babri Case Hearing Live: रामलला के वकील ने कहा- मस्जिद बाबर ने बनाई थी इसका कोई सबूत नहीं है

सुप्रीम कोर्ट में आज राम मंदिर बाबरी मस्जिद केस में सुनवाई हो रही है. रामलला की तरफ से दलील दे रहे वरिष्ठ वकील सी एस वैद्यनाथन ने कहा कि वह मस्जिद बाबर ने बनाई थी इसका कोई सबूत नहीं है जबकि मस्जिद से पहले राम मंदिर था यह सब जानते हैं. उन्होंने कहा कि मुस्लिम पक्ष ने सैकड़ों साल से जमीन के मालिकाना हक का दावा किया था जिसे हाई कोर्ट भी खारिज कर चुका है.

Ayodhya Ram Janmbhoomi Babri Case Hearing Live: सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई राम जन्मभूमि बाबरी विवाद की सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई राम जन्मभूमि बाबरी विवाद की सुनवाई, रामलला की तरफ से वरिष्ठ वकील के परासरन दे रहे हैं दलील. वरिष्ठ वकील के परासरण कीतरफ से बहस हुई पूरी, अब रामलला के लिए वरिष्ठ वकील सी एस वैद्यनाथन ने बहस की शुरुआत की. वैद्यनाथन सबूतों पर बहस करेंगे.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App