नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता में राम जन्मभूमि बाबरी विवाद की 25वें दिन की सुनवाई कर रही है. मुस्लिम पक्ष की तरफ से वरिष्ठ वकील राजीव धवन दलीलें पेश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि राम का जन्म अयोध्या में हुआ यह हम मानते हैं लेकिन किस स्थान पर जन्म हुआ इसका जिक्र किसी धार्मिक ग्रंथ में नहीं  है. पढ़ें अयोध्या राम जन्मभूमि केस के 25वें दिन की सुनवाई की लाइव अपडेट्स.

 

Live Blog

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: CJI रंजन गोगोई ने सभी पक्षकारों से पूछा उन्हें बहस में कितना समय लगेगा, 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं चीफ जस्टिस

अयोध्या रामजन्मभूमि मामले में 25 वें दिन सुनवाई के दौरान संविधान पीठ ने सभी पक्षकारों से पूछा कि उनको बहस पूरा करने में कितना समय लगेगा. 17 नवंबर को CJI जस्टिस रंजन गोगोई रिटायर्ड हो रहे है.
कोर्ट ने कहा पक्षकार बहस के लिए कितना कितना समय लेंगे ताकि हम अंदाजा लगाकर उसी हिसाब से प्लान कर लें कि सुनवाई में कुल कितना वक्त लगेगा. इस पर मुस्लिम पक्ष के वकील धवन ने कहा- मैं पूरी कोशिश करूंगा कि समय से बहस पूरी हो और फैसला आए.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: अयोध्या राम जन्मभूमि केस में अब भोजनावकाश चल रहा है, इसके बाद मुस्लिम पक्ष के जाफरयाब जिलानी दलील देंगे

अयोध्या राम जन्मभूमि केस में अब भोजनावकाश चल रहा है, इसके बाद मुस्लिम पक्ष के जाफरयाब जिलानी दलील देंगे

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: जस्टिस भूषण ने पूछा हनुमान द्वार पर द्वारपाल जय विजय क्यों बने थे, इसका जिक्र 1428 में भी मिलता है

जस्टिस भूषण ने पूछा- हनुमान द्वार पर द्वारपाल क्यों बने थे? जय विजय? इस 19 वीं सदी के उत्तरार्ध 1873-1877 के बीच जब वहां दोनों तरह की प्रार्थनाएं हो रही थीं तब की होंगी. जस्टिस भूषण- ये तो विष्णु मंदिरों के द्वारपाल होते थे जय विजय. इन जय विजय की मूर्ति वाले कसौटी खंबों का ज़िक्र 1428 में भी मिलता है. धवन मुझे वो फोटो मैग्निफाइंग ग्लास यानी आतिशी शीशे से देखनी होंगी. जस्टिस चंद्रचूड़- लेकिन ये खंबों वाली दलील और चित्र मस्जिद के होने या ना होने से नहीं बल्कि वहां हिन्दू पवित्र स्थान होने की तस्दीक करते हैं. धवन- 14 खंबे ढहाए गए या मिले, इससे मन्दिर होने की पुष्टि कैसे? ही सकता है कि मुस्लिम ही कहीं और से लाए हों!धवन ने कहा कि जिलानी बोलेंगे. जिलानी ने कहा कि हमारी तो ये दलील ही नहीं थी.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा समय के साथ सांस्कृतिक संगम भी तो होते हैं, इस पर धवन ने कहा, सच्चाई यहीं है कि अंदर मस्जिद थी और बाहर राम चबूतरा था

जस्टिस चन्द्रचूड़- समय के साथ सांस्कृतिक संगम भी तो होते हैं. धवन- आपकी ये बात हमारी दलील को मजबूत करती है. वहां नीचे मन्दिर था ये अलग दलील है लेकिन यहां बहस मन्दिर तोड़ने को लेकर है. सिर्फ चिह्न मिलने से देवता वहां थे इसकी पुष्टि कैसे होती है? ये तो इस पर निर्भर करता है कि अंदर प्रार्थना का तरीका कैसा है!
सचाई यहीं है अंदर मस्जिद और बाहर राम चबूतरा था. अंग्रेजों ने अलग दरवाज़ा बनाकर अमन कायम रखा.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: जस्टिस बोबड़े ने पूछा- क्या किसी और मस्जिद में ऐसी आकृतियां हैं, इस पर मुस्लिम पक्ष के वकील ने कहा- कुतुब मीनार के पास की मस्जिद में है

जस्टिस बोबड़े- क्या किसी मस्जिद में ऐसी कमल या ऐसी अन्य आकृतियां हैं? क्योंकि हाईकोर्ट ने भी इसको मान्यता दी है. धवन- कुतुब मीनार के पास की मस्जिद में हैं. हम किसी और जज की मान्यता पर नहीं जा रहे. उस ज़माने में राजा, सुल्तान, नवाब का कहा ही कानून होता था. गैर कुरानिक कार्य करने वाला राजा भी गैर इस्लामिक माना जाता था. पश्चिमी दीवार पर न तो कोई आकृति थी और न ही सामने कोई कसौटी खंबा. यानी गैर इसलमिक नमाज़ नहीं हुई.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष के वकील से पूछा, ढांचे में आकृतियां बनीं हैं, इस पर धवन ने कहा- कमल के फूल जैसी आकृतियां इस्लाम में भी हर जगह पाई जाती हैं

कोर्ट ने इमारत में बनी फूल और प्राणियों की आकृतियों पर सवाल पूछा तो धवन ने निर्मोही अखाड़े के लिखित बयान के हवाले से कहा- द्वार को लेकर भी बड़ा विवाद था. 13.12. 1877 में विवादित इमारत की एक बाहरी दीवार में एक दरवाजा सिंहद्वार बनाया गया था ताकि दोनों के लिए अलग अलग प्रवेश निकास हो. विवादित इमारत में आकृतियों के सवाल पर धवन का जवाब- बाहर रामजन्मस्थान यात्रा का पत्थर लगा है. ये यात्रा 1901 में हुई थी. उन्होंने 1990 में खींची खंबों की तस्वीर लगाई है. कसौटी खंबे कहां से आए? कुछ कहते हैं नेपाल से आए, कुछ श्री लंका से कुछ कहते हैं वहीं थे. देवताओं की आकृतियां कहीं नहीं हैं. कमल और फूल तो इस्लामिक आर्ट में भी हर कहीं हैं.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: जस्टिस भूषण के आदेश पर धवन ने उस मौलाना का बयान पढ़ा जिसने कहा था कि हिंदू सिद्ध करें यह जन्मस्थान है, तो हम ढांचा खुद ही गिरा देंगे

जस्टिस अशोक भूषण ने धवन से वो पैरा पढ़ने को कहा जिसमे ये कहा गया था कि हिन्दू जन्मस्थान सिद्ध कर दें तो मुस्लिम पक्ष दावा और ढांचा खुद ही ढहा देंगे,धवन ने पढ़ा इसके बाद धवन ने कहा कि घण्टियों के चित्र, मीनार और वजूखाना ना होने से मस्जिद के अस्तित्व पर कोई फर्क नहीं पड़ता. जस्टिस बोबड़े ने एक मौलाना का स्टेटमेंट पढ़ने को कहा जिसका क्रॉस एक्जाम नहीं हुआ था. यानी उस मौलाना के हवाले से ढ़ी गई धवन की दलील शून्य हो गई। क्योंकि क्रॉस से पहले ही मौलाना का इंतकाल हो गया था.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन से पूछा कि कैसे साबित करेंगे कि राम का जन्म यहां हुआ या नहीं, धवन ने कहा- यहीं तो मुश्किल है

कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन से पूछा- भगवान का स्वयंभू होना क्या सामान्य प्रक्रिया है? ये कैसे साबित करेंगे कि राम का जन्म वहीं हुआ या नहीं?
इस पर धवन ने कहा कि यही तो मुश्किल है. रामजन्मस्थान का शिगूफा तो ईस्ट इंडिया कम्पनी ने 1855 में छोड़ा और हिंदुओं को वहां रामचबूतरा पर पूजा पाठ करने की इजाज़त दी।. धवन ने इकबाल की शायरी का ज़िक्र कर राम को इमामे हिन्द बताते हुए उन पर नाज़ की बात की. लेकिन फिर कहा कि बाद में वो बदल गए थे और पाकिस्तान के समर्थक बन गए थे. सुनवाई के दौरान राजीव धवन ने कोर्ट में अल्लामा इक़बाल का मशहूर शेर पढ़ा 'है राम के वजूद पे हिन्दोस्तां को नाज़, अहल-ए-नज़र समझते हैं उस को इमाम-ए-हिंद"

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: राजीव धवन से जस्टिस चंद्रचूड़ ने पूछा- क्या जगह को व्यक्ति बनाने के मापदंडों को निर्धारित करना बहुत मुश्किल नहीं होगा?

राजीव धवन की कैलाश और अयोध्या की तुलना पर जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने पूछा, तो क्या आप कह रहे हैं कि कुछ शारीरिक अभिव्यक्ति होनी चाहिए ? क्या जगह को व्यक्ति बनाने के लिए मापदंडों को निर्धारित करना बहुत मुश्किल नहीं होगा?
राजीव धवन ने जवाब दिया, कोई भी ग्रंथ ये बताने में सक्षम नहीं है कि अयोध्या में किस सटीक स्थान पर भगवान राम का जन्म हुआ था.

Ayodhya Land Dispute Case SC Hearing Day 25 Live Updates: अयोध्या मामले में 25वें दिन की सुनवाई में मुस्लिम पक्षकारों की ओर से राजीव धवन ने कहा- भगवान राम की पवित्रता पर कोई विवाद नहीं, अयोध्या में जन्म पर भी विवाद नहीं लेकिन स्थान पर सवाल बरकरार है

अयोध्या मामले में 25वें दिन की सुनवाई में मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कहा, भगवान राम की पवित्रता पर कोई विवाद नहीं है. यह भी विवादित नहीं है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में कहीं हुआ था लेकिन इस तरह की पवित्रता स्थान को एक न्यायिक व्यक्ति में बदलने के लिए पर्याप्त कब होगी ? इसके लिए कैलाश पर्वत जैसी अभिव्यक्ति होनी चाहिए. इसमें विश्वास की निरंतरता होनी चाहिए और यह भी दिखाया जाना चाहिए कि निश्चित रूप से वहीं प्रार्थना की गई थी.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App