नई दिल्ली: अयोध्या में बनने जा रहे एयरपोर्ट का नाम मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम इंटरनेशल एयरपोर्ट होगा. जानकारी के मुताबिक साल 2021 के दिसंबर तक एयरपोर्ट का काम खत्म हो जाएगा. अयोध्या में बनने जा रहा एयरपोर्ट यूपी का पांचवा ऐसा एयरपोर्ट होगा जिसे इंटरनेशल एयरपोर्ट के तौर पर मान्यता मिलेगी. इससे पहले लखनऊ, कुशीनगर और वाराणसी एयरपोर्ट अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट के तौर पर मान्यता प्राप्त हैं. अयोध्या में बनने जा रहा मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम इंटरनेशल एयरपोर्ट अंतराष्ट्रीय स्तर का होगा. जेवर में बनने जा रहा एयरपोर्ट भी अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट के मानकों के आधार पर बन रहा है वहीं कुशीनगर एयरपोर्ट नवंबर से ऑपरेशन में आ जाएगा और उसकी पहली उड़ान श्रीलंका के कोलंबों के लिए होगी.

माना जा रहा है कि भगवान राम का मंदिर बनने के बाद अयोध्या में देश-विदेश से श्रद्धालु अयोध्या आएंगे इसलिए यहां अंतराष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट बनाया जा रहा है. अप्रैल 2017 तक अयोध्या एयरपोर्ट का विकास दो चरणों में करने की योजना बनाई गई थी. इसके लिए हुए टेक्नो-इक्नोमिक सर्वे में पहले चरण में एटीआर-72 विमानों के लिए विकसित किया जाना था. इसमें रन-वे की लंबाई 1680 मीटर रखी जानी थी. दूसरे चरण में ए-321, 200 सीटर विमानों के संचालन के लिए एयरपोर्ट विकसित होना था.

गौरतलब है कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भगवान राम के लिए बनने जा रहे भव्य राम मंदिर का शिलान्यास किया था. तब से लेकर अब तक राम मंदिर का निर्माण कार्य पूरी तेजी के साथ शुरू हो चुका है. मंदिर में लोहे की जगह ताबें की प्लेटों का इस्तेमाल हो रहा है ताकि मंदिर कम से कम 1000 साल तक स्थिर रह सके. इसके अलावा आईआईटी के इंजीनियर मंदिर के आस-पास की जमीन का मुआयना कर रहे हैं कि भूकंप के दौरान जमीन कितना कंपन सह सकेगी, उसी अनुसार मंदिर का ढांचा तैयार किया जाएगा.

Ayodhya se Adalat tak Bhagwan Ram: राम जन्मभूमि केस पर लिखी किताब ;अयोध्या से अदालत तक भगवान श्रीराम; के विमोचन पर बोले जस्टिस रंजन गोगोई- अयोध्या केस का फैसला सुनाना चुनौतीपूर्ण रहा

Ayodhya Ram Mandir: भूकंप रोधी होगा अयोध्या राम मंदिर, लोहे की जगह तांबे की प्लेट का किया जाएगा इस्तेमाल