नई दिल्ली. एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने सोमवार को देश में बढ़ते कोरोना केस को देखते हुए एक प्रेस कांफ्रेंस कर लोगों को कोविड-19 टेस्ट को लेकर सलाह दी. उन्होंने कहा अगर किसी व्यक्ति में कोविड -19 के हल्के लक्षण हैं, तो सीटी-स्कैन के लिए जल्दबाजी न करें, क्योंकि इसके साइड-इफेक्ट्स हैं और कैंसर का खतरा है.

महामारी की स्थिति को देखते हुए, हल्के लक्षणों वाले लोग भी बार-बार सीटी-स्कैन कराने के लिए दौड़ रहे हैं, हालांकि, एम्स निदेशक के अनुसार इसका कोई फायदा नहीं है. उसी के बारे में लोगों को जानकारी देते हुए डॉ. गुलेरिया ने कहा, “सीटी-स्कैन और बायोमार्कर का दुरुपयोग किया जा रहा है. हल्के लक्षण होने पर सीटी-स्कैन करने में कोई फायदा नहीं है. एक सीटी-स्कैन 300 छाती के एक्स-रे के बराबर है  यह बहुत हानिकारक है. ”

इस बीच, देश में ऑक्सीजन की उपलब्धता पर बोलते हुए, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, संयुक्त सचिव, लव अग्रवाल ने कहा, “हम चिकित्सा उद्देश्यों के लिए गैसीय ऑक्सीजन का उपयोग करने की योजना बना रहे हैं. औद्योगिक इकाइयां जो ऑक्सीजन बनाती हैं, जो चिकित्सा उद्देश्य के लिए उपयुक्त हैं और शहरों के पास हैं. हम उनके आसपास ऑक्सीजन युक्त बेड के साथ अस्थायी कोविड देखभाल केंद्र बनाने की योजना बना रहे हैं. ”

 लव अग्रवाल ने आगे कहा “हम रिकवरी में भी एक सकारात्मक दृष्टिकोण देख रहे हैं. 2 मई को रिकवरी दर 78% थी और 3 मई को यह लगभग 82% तक चढ़ गई. ये शुरुआती लाभ हैं जिन पर हमें नियमित रूप से काम करना है.”

Adar Poonawalla Talk about Vaccine Shortage : जुलाई तक भारत को कोविड वैक्सीन की कमी का सामना करना पड़ेगा : अदार पूनावाला

India Corona Update: देश में बीते 24 घंटे में कोरोना केस में आई कमी, एक दिन में मिले 3,68,147 नए मामले, 3417 लोगों की मौत

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर