Monday, August 15, 2022

उदयपुर हत्याकांड पर बोली आतिशी मार्लेना, कहा- ऐसी घटनाएं होना शर्म की बात..

उदयपुर। राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के द्वारा पैगम्बर मोहम्मद पर की गई विवादित टिप्पणी के समर्थन में सोशल मीडिया पर स्टेटस लगाने की वजह से दो मुस्लिम लोगों ने दर्जी कन्हैया नामक हिंदू शख्स की बर्बरता से हत्या कर दी। हत्यारों ने पहले तो धारदार हथियार से टेलर की हत्या की फिर उसके बाद उन्होंने घटना का वीडियो बना कर सोशल मीडिया पर अपलोड भी किया। इस घटना के बाद पूरे उदयपुर में तनाव का माहौल बन गया है। इस घटना पर आप नेता आतिशी मार्लेना ने ट्वीट किया है। जिसमें उन्होने आरोपियों को तुरंत सख्त से सख्त सजा देनी की मांग की है।

क्या बोली आप नेता आतिशी

आम आदमी पार्टी की नेता आतिशी ने इस घटना की निंदा करते हुए ट्वीटर पर लिखा कि उदयपुर में हुई घटना बहुत ही दर्दनाक और विभत्स है. हमारे देश में ऐसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं कि जा सकती है. यदि ऐसी घटनाए हो रही है तो देश के लिए शर्म की बात है। हम ये उम्मीद करते हैं कि जो हमारा लॉ एंड ऑर्डर है वो इस घटना दोषियों को जिन्होंने खुद वीडियो बना कर ये कहा है कि उन्होंने कन्हैया लाल के सिर को काटा है, उनको तुरंत सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए, ताकि दोबारा कभी भी किसी की ऐसी घटना को अंजाम देने की हिम्मत ना हो.

राहुल गांधी ने की निंदा 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और केरल के वायनाड से लोकसभा सांसद राहुल गांधी ने इस घटना की निंदा करते हुए ट्वीटर पर लिखा कि उदयपुर में हुई जघन्य हत्या से मैं स्तब्ध हूं। धर्म के नाम पर इस तरह की बर्बरता बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जा सकती है। इस हैवानियत से लोगों के बीच आतंक फैलाने वालों को तुरंत सख़्त सज़ा दी जाने की जरूरत है. हम सभी को एक साथ मिलकर नफ़रत को हराना है। मेरी सभी लोगों से अपील है कि कृपया शांति और भाईचारा बनाए रखें।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने की आलोचना

कन्हैया लाल की हत्या की घटना का जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कड़ी निंदा की है। मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने कहा है कि जिसने भी इस घटना को अंजाम दिया, उसे किसी भी तरह से जायज नहीं ठहराया जा सकता, ये देश के कानून और हमारे मजहब के खिलाफ है। बता दें कि घटना के बाद रात आठ बजे उदयपुर के सात थाना क्षेत्रों में अगले आदेश तक कर्फ्यू लगा दिया गया है और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है।

India Presidential Election: जानिए राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी ये 5 जरुरी बातें

Latest news