Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 

UP Crime: बीवी ने दोबारा सेक्स करने पर जताया ऐतराज़ तो पति ने गला...

0
UP Crime: उत्तर प्रदेश के अमरोहा ज़िले से रिश्तों को तार-तार करने वाला वाकया निकलकर सामने आ रहा है. जहाँ पर एक पति ने...

दिल्ली: कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, MCD चुनाव जीतने वाले पार्षद AAP में शामिल

0
नई दिल्ली. एमसीडी चुनाव के नतीजे आ गए हैं. एमसीडी में आम आदमी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिली है. दिल्ली नगर निगम चुनाव के...
MG 4 EV

नए साल पर पेश होने वाली है ये इलेक्ट्रिक कार, मिलेगी 452km की रेंज!

0
MG 4 EV: देश की कार कंपनी एमजी मोटर इंडिया (MG Motor India) अगले साल के आगाज़ में एकदम नई इलेक्ट्रिक कार पेश करेगी।...

Gujarat Muslim Seats: जानिए क्या है गुजरात की मुस्लिम बहुल्य सीटों का हाल?

0
Gujarat Muslim Candidates: गुजरात विधानसभा के नतीजों के बाद साफ़ है कि भारतीय जनता पार्टी ने भारी बढ़त के साथ जीत हासिल की है....

लखनऊ: इकाना में होगी भारत न्यूजीलैंड की टक्कर, क्या है टी-20 सीरीज का शेड्यूल?

0
लखनऊ: सूबे की राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार में शहीद पथ स्थित भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी इकाना अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में एक बार...

असम: CM हिमंत और सदगुरू ने सूर्यास्त के बाद की काजीरंगा में वाहन सफारी, हो गया बवाल

असम:

गुवाहाटी। काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व के अंदर सूर्यास्त के बाद वाहन सफारी को लेकर असम के मुख्यमंत्री हिंमत बिस्व सरमा और आध्यात्मिक गुरू जग्गी वासुदेव की आलोचना हो रही हैं। पर्यावरण और पशु अधिकार कार्यकर्ताओं ने निशाना साधते हुए कहा है कि उन्होंने वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम की धारा 27 का उल्लंघन किया है। बता दें कि ये कानून ड्यूटी पर तैनात लोक सेवक के अलावा किसी को भी वन्यजीव अभयारण्य में प्रवेश की अनुमति नहीं देता है।

एक्टिविस्ट ने दर्ज कराई शिकायत

पशु अधिकार कार्यकर्ता सोनेश्वर नारा और प्रबीन पेगू ने सीएम हिंमत, सदगुरू और असम के पर्यटन मंत्री के खिलाफ गोलाघाट जिले के बोकाखाट थाने में शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने इनके खिलाफ अधिनियम के तहत कार्रवाई की मांग की है। मीडिया से बात करते हुए नारा ने कहा कि इस विश्व प्रसिद्ध पार्क के लिए काजीरंगा के आसपास के ग्रामीणों ने बहुत बलिदान दिए हैं।

कानून सभी के लिए बराबर होता है

पशु कार्यकर्ता ने कहा कि वन्यजीव संरक्षण अधिनियम का उल्लंघन करने पर पहले कई लोगों के खिलाफ कार्रवाई हुई है। लोगों को कारावास की सजा भी सुनाई गई है। उन्होंने कहा कि यदि देश में कानून सबके लिए बराबर है तो निर्धारित समय से ज्यादा तक वाहन सफारी करने पर सीएम हिंमत, सदगुरू और राज्य के पर्यटन मंत्री के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

अधिक समय तक की वाहन सफारी

बता दें कि असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा, सदगुरू और पर्यटन मंत्री ने शनिवार को काजीरंगा के अंदर निर्धारित समय से दो घंटे ज्यादा तक वाहन सफारी की थी। सफारी वाहन को सदगुरू चला रहे थे, मुख्यमंत्री यात्री सीट पर बैठे थे और बाकी सभी पीछे बैठे थे। सभी लोगों ने दो किलोमीटर की दूरी तक वाहन सफारी की थी।

यह भी पढ़ें-

Russia-Ukraine War: पीएम मोदी ने पुतिन को ऐसा क्या कह दिया कि गदगद हो गया अमेरिका

Raju Srivastava: अपने पीछे इतने करोड़ की संपत्ति छोड़ गए कॉमेडी किंग राजू श्रीवास्तव

Latest news