नई दिल्ली. 18वें एशियाई खेलों में कुश्ती से भारत के लिए बहुत ही निराशाजनक खबर है. भारत के पदकों के सबसे बड़े दावेदार सुशील कुमार बहरीन के रेसलर एडम बैतिरोव से मुकाबला हार गए हैं. 75 किलोग्राम के फ्रीस्टाइल के इस मुकाबले में 3-5 से हार गए. अब वह किस्मत के सहारे रेपचेज मुकाबले में पहुंचते हैं तो वह कांस्य पदक जीत सकते हैं.

सुशील ने क्वालिफिकेशन के पहले दौर में शानदार शुरुआत करते हुए 2-0 से बढ़त हासिल कर ली थी। इसके बाद बहरीन के रेसलर एडम बैतिरोव ने सुशील को टैकल करते हुए एक अंक हासिल किया। वहीं दूसरे दौर में बातिरोव को सुशील पर भारी पड़ते हुए देखा गया और ऐसे में उन्होंने भारतीय पहलवान को पीली रेखा दायरे से बाहर कर पांच अंक हासिल कर लिए। सुशील इस बीच एक अंक हासिल कर पाए और इस कारण 5-3 से हार गए। एशियाई खेलों को लेकर सुशील कुमार ने जार्जिया में बेहतर तैयारी की थी लेकिन पहले राउंड में हार जाने के बाद उनकी उम्मीदों के झटका लगा है.

कुश्ती में भारत को सुशील कुमार से स्वर्ण पदक की उम्मीद थी. सुशील एशियाई खेलों में अभी तक सोने का तमगा जीतने में नाकाम रहे हैं. 2006 दोहा एशियाई खेलों में वह कांस्य पदक जीतने में कामयाब हुए. सुशील ग्वांग्झू और इंचियोन एशियाई खेलों में भाग नहीं ले पाए थे.

2008 में सुशील कुमार ने बीजिंग ओलंपिक में 66 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीतने में सफल रहे थे. वहीं 2012 लंदन ओलंपिक में सुशील अपने पदक का रंग बदला. लंदन ओलंपिक में उन्होंने 66 किग्रा वर्ग में रजत पदक हासिल किया था.

2018 में गोल्ड कोस्ट ऑस्ट्रेलिया में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में सुशील कुमार ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया. हाल ही में एशियाई खेलों के बारे में सुशील ने कहा था, मैंने कुश्ती में चार साल बाद वापसी की और ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में राष्ट्रमंडल खेलों में 74 किग्रा में मैंने स्वर्ण पदक जीता था.

एशियन गेम्स 2018ः 10 मीटर एयर रायफल में रवि कुमार के साथ अपूर्वी चंदेला ने दिलाया भारत को पहला पदक

एशियन गेम्स 2018: जानिए कौन हैं एशियाड में भारत को पहला मेडल दिलाने वाली अपूर्वी चंदेला

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App