Thursday, December 8, 2022

एमसीडी चुनाव 2022 नतीजे

एमसीडी चुनाव  (250 / 250)  
BJP - 104
CONG - 09
AAP - 134
OTH - 03

लेटेस्ट न्यूज़

Time मैगज़ीन के पर्सन ऑफ द ईयर बने यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की

0
नई दिल्ली : यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को विश्व प्रसिद्ध पत्रिका टाइम ने पर्सन ऑफ द ईयर 2022 बनाया है. बता दें, हर साल...

उत्तराखंड : कोर्ट ने Facebook पर लगाया 50 हजार का जुर्माना, जानिए पूरा मामला

0
नैनीताल : बुधवार (7 दिसंबर) को नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया है. ये जुर्माना सही समय पर जवाब दाखिल...

हैदराबाद : देह व्यापर में धकेली जा रही थीं 14 हज़ार लड़कियां, ऐसे पकड़ा...

0
Hyderabad: हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस को देह-व्यापर के गोरकधंधे में एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. पुलिस ने वेश्यावृत्ति का राजफास करते हुए 17...

असदुद्दीन ओवैसी ने कांवड़ियो फूल बरसाने पर कसा तंज, पूछा- यह ‘रेवड़ी कल्चर’ नहीं?

 

हैदराबाद। यूपी में सीएम योगी के निर्देश पर कांवड़ियों के उपर फूल बरसाने को लेकर खूब प्रंशसा की जा रही हैं. तो वहीं दूसरी तरफ ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने इसको लेकर योगी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने ने ट्विटर पर तंज कसते हुए प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा ‘अगर इन पर फूल बरसा रहे हैं, तो कम से कम हमारे घर तो मत तोड़िए.

AIMIM सांसद का योगी सरकार पर बड़ा तंज

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने कांवड़ियों पर हो रही पुष्प वर्षा को हर कहीं चर्चा का विषय बना दिया है. इसी के साथ एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने फूल बरसाने को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. हालांकि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन ट्वीट में यह साफ नजर आ रहा है कि वह किस बारे में बात कर रहे हैं.

असदुद्दीन ओवैसी ने किया ट्वीट

दरअसल, सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर लिखा कि”अगर उन पर फूल बरसा रहे हैं, तो कम से कम हमारे घर तो मत तोड़िए’. इसी के साथ ओवैसी ने कुछ अखबारों की फोटो शेयर करते हुए लिखा, यह ‘रेवड़ी कल्चर’ नहीं है? मुसलमान, जब भी खुली जगह पर थोड़ी देर के लिए नमाज भी अदा करें तो बवाल खड़ा हो जाता है.

 

इतना भेद-भाव क्यों?

सांसद औवेसी ने आगे लिखा कि कांवड़ियों के जज्बात इतने कमजोर हैं कि वे किसी मुसलमान पुलिसकर्मी का नाम भी बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं. इतना भेद-भाव क्यों? क्या समानता नहीं होनी चाहिए? एक से नफ़रत और दूसरों से मोहब्बत क्यों? एक मजहब के लिए ट्रैफिक डाइवर्ट और दूसरे के लिए बुलडोज़र क्यों?.

यह भी पढ़े-

Latest news