नई दिल्ली: सीएम अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कोरोना का इलाज करने से आना कानी कर रहे दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जमकर फटकार लगाई. इस दौरान सीएम केजरीवाल ने ये भी बताया कि कैसे कुछ अस्पताल बेड्स की ब्लैक मार्केटिंग कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बेड्स की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले अस्पतालों को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने साफ कहा कि अस्पताल इलाज करवाने के लिए बनवाए गए हैं, पैसे कमाने के लिए नहीं.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि सरकारी जमीन पर बने सभी अस्पतालों को कोरोना मरीजों का इलाज करना होगा और ऐसा ना करने वाले मरीजों पर सख्त कार्रवाई होगी. सीएम केजरीवाल ने कहा कि मनमानी करने वाले अस्पताल मालिकों की सभी बड़ी पार्टियों में पहुंच है और अपने राजनीतिक आकाओं की आड़ में अस्पताल मनमानी कर रहे हैं. सीएम केजरीवाल ने कहा कि ऐसे अस्पताल चाहे किसी भी खुशफहमी में हों, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा और सख्त कार्रवाई होगी.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि कोरोना ऐप पर बेड उपलब्ध होने के बावजूद अस्पताल कह रहे हैं कि बेड उपलब्ध नहीं है. सीएम केजरीवाल ने कहा कि उन्हें पता चला है कि आरक्षित बेड को पैसे लेकर बेचा जा रहा है और अब इस धांधली को रोकने के लिए सरकार ने एडमिशन काउंटर पर एक प्रतिनिधि को बैठाने का फैसला किया है ताकि मरीजों की भर्ती के दौरान कोई गड़बड़ी ना हो सके. सीएम केजरीवाल ने प्राइवेट अस्पतालों को सख्त चेतावनी दी है कि उन्हें 20 फीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित रखने होंगे और अगर वो ऐसा नहीं करते हैं तो पूरा अस्पताल कोरोना अस्पताल बना दिया जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि अस्पताल किसी कोरोना संदिग्ध को अस्पताल में भर्ती करने से मना नहीं कर सकते. भर्ती होने वाले मरीज का कोरोना टेस्ट और इलाज करना अनिवार्य होगा

गौरतलब है कि शुक्रवार को दिल्ली में कोरोना के 1330 मामले सामने आने के बाद दिल्ली में कोरोना के कुल मामले 26000 के पार हो गए हैं वहीं कोविड-19 से मरने वाले लोगों की संख्या 708 हो गई है.

Gold Bond Scheme: सस्ता सोना खरीदेना का सुनहरा मौका, 4677 रूपये प्रति ग्राम की दर पर गोल्ड बेचेगी मोदी सरकार

Government Stops Schemes: कोरोना ने सरकार को दिया आर्थिक झटका, खस्ता आर्थिक हालात के चलते सरकार ने बंद की कई योजनाएं

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर