नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने साफ कर दिया है कि वे 2019 में बन रहे गठबंधन का हिस्सा नहीं होंगे. केजरीवाल ने गुरुवार को रोहतक में कहा कि लोकसभा चुनाव को लेकर जो पार्टियां 2019 में गठबंधन करने की तैयारी कर रही है उनकी देश के विकास में किसी तरह की कोई भूमिका नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा गठबंधन जनता के विकास के साथ है.

केजरीवाल में गठबंधन में न शामिल होने को लेकर तर्क दिया कि पहले राष्ट्रपति चुनाव के बाद अविश्वास प्रस्ताव में हमने बिना मांगे कांग्रेस को अपना समर्थन दिया था लेकिन कांग्रेस नें कभी भी हमसे कोई सम्मानजनक बात नहीं की. केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस गठबंधन में शामिल लोगों को सम्मान देना ही नहीं जानती.

इसके अलावा गुरुवार को राज्यसभा में हुए उपसभापति के हुए चुनाव में हुई हार को लेकर केजरीवाल ने कहा कि किसी भी चुनाव के लिए कांग्रेस के पास कोई रणनीति नहीं है और यहीं वजह है कि उसे एक के बाद एक हार का सामना करना पड़ रहा है. केजरीवाल में बताया कि उनकी आम आदमी पार्टी हरियाणा में विधानसभा चुनाव के अलावा लोकसभा की सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

रोहतक में केजरीवाल ने हरियाणा सरकार पर हमला करते हुए कहा कि वे सरकार को मुफ्त में शासन सिखाने को तैयार हैं. केजरीवाल ने कहा कि एसवाईएल के मामले में हरियाणा व पंजाब दोनों ही राज्यों के साथ इंसाफ होना चाहिए. राजनीतिक पार्टियों ने एसवाईएस के मुद्दे पर  राजनीति की है.

राज्यसभा में मोदी सरकार के विकास रथ को रोकने में कांग्रेस की नाकामी की शुरुआत हैं हरिवंश की जीत: शाहनवाज

एच डी कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह में गए सीएम अरविंद केजरीवाल के 1.85 लाख के होटल बिल पर विवाद

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App