Arvind Kejriwal Cabinet Decision: कोरोना महमारी के बीच पैदा हुए संकट के बीच दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला किया है. दरअसल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री घर-घर राशन योजना शुरू करने का फैसला लिया गया है. इस योजना के लागू होते ही दिल्लीवासियों को उनके घर पर राशन पहुंचाया जाएगा. इसका मतलब यह है कि लोगों को राशन के लिए दुकान नहीं जाना होगा.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डिजिटल प्रेंस कॉन्फ्रेंस कर कैबिनेट के इस फैसले की जानकारी दी है. सीएम केजरीवाल ने बताया कि पूरे देश में हर सरकार केंद्र सरकार के साथ मिलकर अपने राज्य के गरीब लोगों को राशन बांटती है. देश में राशन बंटना शुरू हुआ तब से गरीब लोगों को राशन लेने में बहुत दिक्कत आ रही है. कभी दुकान बंद मिलती है तो कभी मिलावट मिलती है तो कभी पैसे ज्यादा ले लेते हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते 5 वर्षों में हमें राज्य की राशन व्यवस्था में काफी सुधार किए हैं. हमारी कैबिनेट जो फैसले लिए हैं वह किसी क्रांतिकारी निर्णय से कम नहीं है. आज इस कड़ी में हमने दिल्ली डोर स्टेप डिलीवर ऑफ राशन की योजना को मंजूरी दी है. इस योजना का नाम मुख्यमंत्री घर-घर राशन योजना होगा. केजरीवाल ने बताया कि इस योजना के तहत अब लोगों को राशन की दुकान पर नहीं आना पड़ेगा बल्कि राशन लोगों के घर इज्जत से पहुंचाया जाएगा.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि इस योजना के तहत आने वालों को यह विकल्प दिया जाएगा कि जो दुकान पर जाकर राशन लेना चाहेगा वह दुकान पर जाकर ले सकता है और अगर होम डिलीवरी चाहते हैं तो उसका विकल्प इस्तेमाल कर सकते हैं. अगले 6-7 महीनों में राशन की होम डिलीवरी शुरू हो जाएगा. होम डिलीवर में गेंहू की बजाया आटा दिया जाएगा. सीएम ने यह भी बताया कि जिस दिन दिल्ली में राशन की होम डिलीवरी शुरू होगी, उसी दिन केंद्र सरकार की वन नेशन वन कार्ड योजना भी शुरू कर दी जाएगी.

Telecom AGR Dues Hearing: सुप्रीम कोर्ट में वोडाफोन ने कहा- खत्म हो चुकी है 15 सालों की कमाई, कोर्ट बोला- अब भेजेंगे जेल

Rajasthan Government Crisis Highlights: सचिन पायलट गुट की याचिका पर राजस्थान हाई कोर्ट में सुनवाई शुरू

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर