मेरठ. 2019 लोकसभा चुनाव की तैयारी के लिए बीजेपी ने कमर कस ली है जिसकी तैयारियों के बीच भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी की दो दिनों की उत्तर प्रदेश कार्यसमिति के अंतिम दिन उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 74 सीटों पर जीत दर्ज करने का मंत्र अपने नेताओं को दिया है. कार्यसमिति के अंतिम दिन उन्होंने कहा कि हमें 2019 के लोकसभा चुनावा में 73 से एक ज्यादा यानी 74 सीटों पर जीतना होगा. इसके अलावा उन्होंने विपक्ष द्वारा तैयार किए जा रहे महागठबंधन पर अपने मंत्रियों को कहा की महागठबंधन से कैसे निपटना है आप लोग इसकी चिंता पार्टी पर ही छोड़ दें.

कार्यसमिति में बीजेपी नेताओं को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, भाजपा के लिए महागठबंधन कोई चुनौती नहीं है. उन्होंने अपने सांसदों और विधायकों को सलाह दी कि वे अपने निर्वाचन क्षेत्रों में प्रत्येक गांव के दौरे  पर जाएं और गांव के कम से कम 20 घरों में जाकर चाय पीयें और केंद्र और राज्य सरकार द्वरा किए गए कार्यों की जानकारी को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं. 

उन्होंने कहा कि बस आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को आम लोगों के बीच लेकर जाइए. अगर आप लोग आम जनता के बीच गली मोहल्लों में इन योजनाओं को पहुंचाएंगे तो मजबूत होकर खड़े होंगे तो जीत हमारी ही होनी है.

अपने संबोधन में अमित शाह ने साफ शब्दों में कहा कि भाजपा तुष्टिकरण के बजाय विकास की राजनीति करेगी. इसके साथ ही उन्होंने इस बात को भी कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बेदाग छवि और चेहरे पर ही लड़ा जाएगा. जिसके बाद उन्होंने अपने कार्यसमिति में मौजूद तमाम कार्यकर्ताओं और नेताओं के बीच 73 प्लस का नारा देते हुए जीतने के प्रति विश्वास जताया.

संबोधन में अमित शाह ने कहा, ‘लोग मुझसे पूछते हैं कि 2019 लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी मिल गईं तो क्या होगा. तब मैं कहता हूं कि यूपी में सपा,बसपा और कांग्रेस को हम पहले ही एक साथ हरा चुके हैं. उन्होंने मजाकिया अंदाज में चुटकी लेते हुए कहा, जब 2017 में जब हमने यूपी विधानसभा चुनाव लड़ा था तब दो लड़कों (राहुल गांधी और अखिलेश यादव) ने हाथ मिलाया था. उसके बाद भी हमने 300 से ज्यादा सीटें जीती थीं. और इस बार तीनों पार्टीयां मिल जाएंगी तो हम 2019 में 74 से कम सीटें नहीं जीतेंगी.

कार्यसमिति के अंत में बीजेपी अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं और नेताओं को जानकारी देते हुए बताया कि 1 सितंबर 2018 से 15 सितंबर के बीच उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर संचालन की टोलियों की आयोजित की जाएगी. जिसका काम होगा छूटे हुए सभी मतदाताओं के अभियान के तहत 30 सितंबर तक वोटर कार्ड बनवाए जाएंगे.

NRC बीजेपी का 2019 का चुनावी मुद्दा, मोदी सरकार पूरे देश में नागरिकों और घुसपैठियों की लिस्ट बनाएगी

मेरठ: अमित शाह का बीजेपी नेताओं से वादा- महागठबंधन से मत डरो, चुनाव मैं जिता दूंगा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App