बालटाल: बाबा अमरनाथ बर्फानी की पवित्र यात्रा इस साल कोरोना के चलते काफी प्रभावित हो रही है. बाबा बर्फानी के दर्शनों के लिए एक दिन में पांच सौ से ज्यादा तीर्थयात्रियों को इजाजत नहीं दी जाएगी. 21 जुलाई से अमरनाथ यात्रा शुरू होने की संभावना है जिसको लेकर उच्चस्तरीय बैठक में चर्चा की गयी जिसमें केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी, प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह और गृह मंत्रालय तथा जम्मू कश्मीर प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया. इस बैठक में जम्मू कश्मीर में स्थित अमरनाथ गुफा मंदिर और वैष्णोदेवी मंदिर में श्रद्धालुओं को दर्शन देने की अनुमति के संबंध में चर्चा की गई.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस बार कोरोना के चलते अमरनाथ गुफा में बाबा बर्फानी के दर्शनों के लिए 500 श्रद्धालुओं से ज्यादा को इजाजत नहीं दी जाएगी. गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में अबतक 145 लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं और अगर दूसरे राज्यों से लोग माता वैष्णो देवी या बाबा अमरनाथ के दर्शनों के लिए आते हैं तो संक्रमण की संख्या और बढ़ जाएगी.

इस साल बाबा बर्फानी के दर्शनों के लिए कौन सा रास्ता खोला जाएगा इस बारे में भी कोई फैसला नहीं हो पाया है क्योंकि पहलगाम का रास्ता पूरी तरह बर्फ से ढका हुआ है, ऐसे में सिर्फ बालटाल का रास्ता ही बचता है. अगले हफ्ते फैसला होगा कि अमरनाथ यात्रा कब से शुरू करनी है और कौन सा रास्ता मुफीद होगा. गौरतलब है कि कोरोना संकट के चलते 31 जुलाई तक वैष्णो देवी यात्रा को भी स्थगित कर दिया गया था. कोरोना वायरस के चलते दूसरे राज्यों के लोगों को माता वैष्णो देवी और अमरनाथ जी की पवित्र गुफा के दर्शन की इजाजत दी जाएगी या नहीं इस बारे में बाद में फैसला लिया जाएगा.

Happy Maha Shivratri 2020 Wishes in Marathi: महाशिवरात्रि 2020 पर मराठी फोटो-मैसेज अपने दोस्तों को फेसबुक, वॉट्सएप पर भेज भोलेनाथ के इस दिन को बनाएं और भी खास

Jammu Kashmir Tourists Ban Lift: यात्रा प्रतिबंध लगने के दो महीने बाद आज से पर्यटकों के लिए फिर खुला जम्मू-कश्मीर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर