पंजाब, पंजाब में सियासत एक बार फिर गरमा गई है. पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह के पार्टी छोड़ने के बाद से ही यह कयास लगाए जा रहे थे की अमरिंदर जल्द ही बीजेपी में शामिल होने वाले हैं. सभी को इंतज़ार था कि केप्टन का अगला दांव क्या होगा होगा. जब तक केप्टन कांग्रेस में थे तब तक तो कांग्रेस उनपर खुलकर वार नहीं कर रही थी लेकिन जैसे है केप्टन ने पार्टी छोड़ी कांग्रेस ने उन पर खुलकर वार करना शुरू कर दिया. इसी क्रम में कैप्टेन की पाकिस्तानी मित्र अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच की जा रही है.

पंजाब कांग्रेस का कहना है कि पंजाब पर पाकिस्तानी खतरा मंडरा रहा है, इसलिए अरूसा आलम के ISI कनेक्शन ( Amarinder Singh’s Pakistan friend’s links with ISI ) की जांच की जा रही है. इसपर कैप्टन ने भी पार्टी पर तीखे सवाल करते हुए कहा है कि बीते 16 सालों से अरूसा आलम भारत आती रही हैं, लेकिन कभी इनके ISI कनेक्शन की जांच नहीं हुई, फिर अब क्यों.

डिप्टी CM और गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने उठाए अरूसा आलम पर सवाल

पंजाब पर पाकिस्तानी खतरा मंडरा रहा है, इस क्रम में पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह की दोस्त अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच हो रही है. बता दें कि जब से कैप्टेन ने अलग पार्टी बनाने का ऐलान किया है तब से ही कांग्रेस का रवैया कैप्टेन के लिए काफी सख्त हो गया है. पंजाब पर पाकिस्तान खतरे को लेकर अमरिंदर पर सवाल उठाए हैं, उनका कहना है कि साढ़े 4 साल सब कुछ ठीक रहा, जैसे ही CM की कुर्सी छिनी, तो पंजाब को पाकिस्तान से खतरा मंडराने लगा. ऐसा तब क्यों नहीं हुआ जब अरूसा आलम कैप्टेन के चंडीगढ़ रेसिडेंस पर थी.

कैप्टेन का पलटवार

कैप्टेन ने अरूसा आलम के ISI जाँच को लेकर नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए सुखजिंदर रंधावा से सवाल करते हुए कहा कि वह उनकी कैबिनेट में मंत्री थे, तब कभी अरूसा आलम के खिलाफ शिकायत नहीं की. अरूसा आलम पिछले 16 वर्षों से भारत सरकार की क्लीयरेंस से यहां आ रही हैं, तब कभी क्यों कोई दिक्क्त नहीं हुई ?

यह भी पढ़ें :

Mumbai Cruise drugs bust case : अनन्या से NCB की पूछताछ, अभिनेत्री ने आर्यन को ड्रग्स दिलाने में मदद से किया इनकार

Festival of Faith Chhath Puja : आस्था का महापर्व छठ पूजा, जानिए विधि, सामग्री और मान्यताएं