नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की पूर्व और इलाहाबाद बैंक की एमडी और सीईओ ऊषा अनंत सुब्रमण्यम को उनके कार्यकाल के अंतिम दिन यानी रिटायरमेंट वाले दिन बर्खास्त कर दिया. इसके साथ ही पीएनबी घोटाले में उनके खिलाफ सीबीआई जांच को भी मंजूरी दे दी है. पीएनबी घोटाले में नाम आने के बाद 3 महीने पहले ही उनसे सारे अधिकार छीन लिए गए थे.

केंद्र सरकार ने पीएनबी घोटाले में कार्रवाई करते हुए पंजाब नेशनल बैंक की पूर्व और इलाहाबाद बैंक की एमडी और ऊषा अनंत सुब्रमण्यम को सोमवार को बर्खास्त कर दिया. सरकार ने अधिसूचना जारी कर इस बारे में जानकारी दी. वित्त मंत्रालय से आदेश मिलने के बाद करीब तीन महीने पहले इलाहाबाद बैंक ने ऊषा से उनके सारे अधिकार छीन लिए थे. हालांकि वह एमडी और सीईओ पद पर बनी हुई थीं.

पीएनबी घोटाले में नाम आने के बाद उनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई थी. 14 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाले की जांच कर रही CBI ने ऊषा को चार्जशीट में आरोपी बनाया था. सरकार ने सोमवार को अपने फैसले में सीबीआई को उनके खिलाफ कार्रवाई करने की भी मंजूरी दे दी है. आरोप है कि ऊषा पीएनबी के प्रबंध निदेशक के तौर पर अपने दायित्वों का निर्वहन करने में नाकाम रहीं. जिसकी वजह से यह घोटाला हुआ.

पीएनबी घोटाला: निरव मोदी के ठिकानों पर छापा, मिली 15 करोड़ की ज्वैलरी, 1.4 करोड़ की घड़ियां, 10 करोड़ की पेटिंग

गौरतलब है कि पिछले साल पीएनबी में लगभग 14 हजार करोड़ रुपए के घोटाले के सामने आने के बाद देश में हड़कंप मच गया था. घोटाले का मास्टरमाइंड हीरा कारोबारी निरव मोदी, उसके मामा मेहुल चोकसी देश छोड़कर भाग चुके हैं. इस घोटाले में पीएनबी के कुछ कर्मचारियों की भी संलिप्तता पाई गई थी. सीबीआई इस घोटाले की जांच कर रही है.

मेहुल चोकसी के वकील का दावा, कांग्रेस से नजदीकियों के चलते चोकसी को उठानी पड़ रही परेशानी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App