नई दिल्ली. अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है. आज मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर पांचवे दिन सुनवाई की. सुप्रीम कोर्ट बुधवार से लगाता इस केस पर सुनवाई कर रहा है. शुक्रवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- क्या भगवान राम का कोई वंशज दुनिया में कहीं भी या अयोध्या में मौजूद हैं. इसके बाद से ही भगवान श्री राम का वंशज होने के कई दावे सामने आ चुके हैं. हाल ही में अग्रवाल समाज ने भगवान भगवान राम की वंशावली का दावा करते हुए सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को पत्र लिखा है.

उन्होंने पत्र में लिखा कि पूरा अग्रवाल समाज भगवान श्री राम का वंशज है क्योंकि महाराजा अग्रसेन भगवान राम के पुत्र की 35वीं पीढ़ी थे. महाराजा अग्रसेन क्षत्रिय थे, जिन्हें कालांतर में अग्रवाल समाज का प्रवर्तक कहा गया है. इसलिए हमें यानी अग्रवाल समाज को सूर्यवंशी भी कहा जाता है. इस संबंध में पूरे तथ्य धर्मग्रन्थों में वर्णित हैं और कई इतिहासकारों ने भी इस बात को माना है. अग्रवाल समाज द्वारा पत्र में लिखा गया कि महाराजा अग्रसेन का वंशज होने के नाते हमारे सहित पूरा अग्रवाल समाज (जिनकी अनुमानित संख्या 10 करोड़ है) भगवान श्रीराम का भी वंशज है. जो अयोध्या ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में फैला हुआ है.

इससे पहले राजसमंद से भाजपा की सांसद और जयपुर राजघराने की सदस्य दीया कुमारी ने भी भगवान राम का वंश होने का दावा किया था. दीया कुमारी ने ट्वीट कर कहा था कि जयपुर राजपरिवार की गद्दी भगवान राम के पुत्र कुश के वंशजों की राजधानी है. उन्होंने कहा कि दुनियाभर में भगवान राम के वंशज मौजूद हैं. इसमें उनका परिवार भी शामिल हो, जो भगवान राम के पुत्र कुश के वंशज हैं. वहीं मेवाड़ राजघराने के महेंद्र सिंह मेवाड़ ने भी दावा किया कि मेवाड़ राजपरिवार भगवान राम के पुत्र लव का वंशज है.

Supreme Court on Jammu Kashmir Petition: सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर में कर्फ्यू और धारा 144 के खिलाफ दायर याचिका पर तत्काल सुनवाई से किया इनकार, दो हफ्ते बाद दोबारा होगी सुनवाई

SC Hearing In Ayodhya Land Dispute Case Day 5 Written Updates: जन्मस्थान खुद में एक देवता है और देवता का बंटवारा नही हो सकता: रामलला विराजमान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App