मुंबई: चंद रुपयों के लिए दूध में मिलावट कर लोगों की सेहत से खिलवाड़ करने वालों को अब जेल की सलाखों के पीछे भेजने की तैयारी हो रही है. महाराष्ट्र सरकार महाराष्ट्र विधानसभा में एक विधेयक लाने जा रही है जिसके मुताबिक दूध में मिलावट करना गैरजमानती होगा और इसमें तीन साल तक की सजा हो सकती है. फिलहाल ये अपराध जमानती है और इसमें अधिकतम 6 महीने तक की सजा का प्रावधान है.

राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री गिरीश बापट ने सदन में कहा कि जल्द ही इस बाबत कानून लाया जाएगा जिसके मुताबिक अगर दूध में मिलावट करने वाले को अगर तीन साल से ज्यादा की सजा सुनाई जाती है तो अपराधी को जमानत नहीं मिलेगी. इस प्रस्ताव को विधानसभा में समर्थन मिल रहा है बल्कि कुछ सदस्य तो इस मामले में सजा की अवधि को 3 साल से बढ़ाकर उम्रकैद में तब्दील करने की मांग कर रहे हैं लेकिन उम्रकैद की मांग को कानूनी दिक्कतों की वजह से निरस्त कर दिया गया है. एक अनुमान के मुताबिक मुंबई में 30 फीसदी मिलावट वाले दूध की आपूर्ति की जाती है.

दूध में मिलावट की समस्या अकेले महाराष्ट्र में नहीं है बल्कि देश के हर राज्य में मांग और आपूर्ति के बढ़ते स्तर को देखते हुए व्यापारी दूध में मिलावट करते हैं. त्योहारों के समय तो ये मिलावट हद से ज्यादा बढ़ जाती है जो सेहत पर बेहद बुरा असर डालती है. अगर आप लंबे समय तक कैमिकल युक्त दूध पीने हैं तो ये आपके लीवर को नुकसान पहुंचाता है इसके अलावा खराब दूध किडनी और हृदय की बीमारियों को भी जन्म देता है.

पढ़ें- Navratri Vrat Recipes: कुट्टू का डोसा, पनीर रोल्स समेत ये 5 लाजवाब व्यंजन आपके व्रत को बनाएंगे खास

खांसी- बुखार से लेकर जोड़ो के दर्द तक लौंग है बेहद असरदार, जानिए इसके फायदे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App