नई दिल्ली: बुधवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद नीत दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ ने एपीजे अब्दुल कलाम स्टडी सर्कल के सहयोग से दिल्ली स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब में प्रस्तावित नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति संबंधी विभिन्न बिंदुओं पर विचार करने हेतु संवाद कार्यक्रम आयोजित किया. कार्यक्रम में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री श्री सुनील आंबेकर तथा नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति समिति के सदस्य प्रो. एम श्रीधर ने दिल्ली विश्वविद्यालय , जेएनयू व जामिया के प्राध्यापकों , शोधार्थियों एवं छात्रों को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विभिन्न बिंदुओं पर अपने विचार रखे.ज्ञात हो कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति प्रस्ताव पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद राष्ट्र के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में संवाद , परिचर्चा आदि के माध्यम से जागरूकता का प्रसार कर रहा है.

नई शिक्षा नीति समिति के सदस्य प्रो एम के श्रीधर ने कहा कि ” नीति तथा उसका लागू होना दोनों अलग अलग विषय हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि यह नीति उसी प्रकार लागू होगी जैसी बनाई गई है. यह नीति संपूर्ण शिक्षा व्यवस्था को 360 डिग्री तक बदल देगी. शिक्षा के पहले 15 साल शिक्षा का बहुत ही अहम हिस्सा है. उसका भी ध्यान इसमें रखा गया है। 11 साल की उम्र तक सीखने की प्रक्रिया में कमी देखने में आ रही थी. उसको भी इस के माध्यम से ठीक करने का काम किया जा रहा है.  इस मौके पर सुनील अंबेडकर ने कहा कि लंबे समय से शिक्षा में बदलाव की जरूरत थी लेकिन प्रस्तावित सुझावों का पालन नहीं किया जा रहा था. वहीं  एबीवीपी के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि एबीवीपी शुरू से ही भारत केंद्रित शिक्षा व्यवस्था में विश्वास करता है। शिक्षा नीति के प्रारूप के विभिन्न पक्षों -शोध,प्रशिक्षण, छात्र संघ की भूमिका आदि पर चर्चा के लिए शिक्षा क्षेत्र में काम करने वाले भागीदारों को हमने एकत्रित किया है.

करिकुलम, सो कॉल्ड करिकुलम एवं एक्स्ट्रा करिकुलम इन सबमें अंतर समाप्त करने का कार्य भी हम इस नीति के माध्यम से कर रहे है 4 वर्ष की माध्यमिक शिक्षा में भी बदलाव होना आवश्यक है. किसी भी प्रशासनिक व्यवस्था के पास एक से अधिक दायित्व नहीं रहेगा. सब मात्र एक ही दायित्व का निर्वहन करेगें ताकि एक सफल शैक्षिक प्रकिया का संचालन हो सके. लिबरल आर्ट ऑफ एजुकेशन इस व्यवस्था को भी इस नीति में लागू किया गया ताकि शिक्षा का स्तर और बेहतर हो सके. डिग्री ग्रांटिंग ऑटोनोमस महाविद्यालयों की व्यवस्था भी राष्ट्रीय शिक्षा नीति में रहेगी .

ABVP-Organised-Seminar-on-New-Education-Policy

अभाविप के राष्ट्रीय संगठन मंत्री सुनील आंबेकर ने कहा कि ‘अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद नई शिक्षा नीति का स्वागत करती है तथा देशभर के शिक्षाविदों , प्राध्यापकों , शोधार्थियों से आग्रह करती है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर अपने महत्वपूर्ण सुझाव दें , जिससे एक प्रासंगिक एवं विद्यार्थी का सम्पूर्ण विकास करने में सक्षम शिक्षा नीति लागू हो सके तथा भारतीय शिक्षा प्रणाली का कायाकल्प संभव हो पाए. इस संवाद कार्यक्रम में अभाविप के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्रीनिवास , दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष शक्ति सिंह , एपीजे अब्दुल कलाम स्टडी सर्कल के संयोजक अभिषेक वर्मा आदि उपस्थित रहे.

Delhi University Admission 2019-20: दिल्ली यूनिवर्सिटी में 30 मई से शुरू हो सकती है एडमिशन प्रक्रिया, UG, PG में एडमिशन के लिए रहें तैयार

Nitin Gadkari To ABVP Workers: एबीवीपी कार्यकर्ताओं से नितिन गडकरी बोले- जो घर नहीं संभाल सकते वे देश कैसे संभालेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App