नई दिल्ली. संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान रविवार को संपन्न हो गया. कोरोना संक्रमण के कारण विश्वविद्यालय बंद होने से चुनाव की चहल-पहल नदारद रही. छात्रों के नहीं होने के कारण परिसर में सन्नाटा पसरा रहा. दोपहर एक बजे तक केवल 633 वोट ही पड़े.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) ने भारतीय छात्र संघ (NSUI) के सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्व विद्यालय में छात्र संघ चुनाव हार गए. एबीवीपी ने अपनी सभी चार सीटें खो दीं जो उसने 2019 के चुनावों में जीती थीं.

समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया कि बुधवार को घोषित किए गए परिणामों में, एनएसयूआई के उम्मीदवार, कांग्रेस के छात्रसंघ अध्यक्ष, शिवम शुक्ला ने कुल 988 मतों में से 485 मतों के साथ अध्यक्ष पद जीता. एनएसयूआई चंदन कुमार मिश्रा ने भी 554 के साथ उपाध्यक्ष पद जीता. एनएसयूआई ने अन्य पदों के अलावा महासचिव का पद भी जीत लिया.

जीत पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि उन्हें “शानदार” परिणामों के लिए एनएसयूआई पर गर्व है. “सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में शानदार परिणाम के लिए NSUI का इतना गर्व: 4 में से 4 !! अच्छा हुआ !!, ”गांधी ने एक ट्वीट में कहा।

अध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के कृष मोहन शुक्ला ने 442 वोट पाकर एबीवीपी के अजय दुबे (306) को 136 वोटों से हराया. उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के अजीत कुमार चौबे ने 411 वोट हासिल कर एबीवीपी के चंद्रमौली तिवारी (343) को 68 वोटों से हराया. महामंत्री पद पर एनएसयूआई के शिवम चौबे ने 485 वोट हासिल कर एबीवीपी के गौरीशंकर गंगेले (266) को 219 वोटों से हराया. पुस्तकालय मंत्री पद पर एनएसयूआई के आशुतोष कुमार मिश्र ने 415 वोट हासिल कर एबीवीपी के विवेकानंद पांडेय (338) को 77 वोटों से हराया.

छात्रसंघ चुनाव के लिए प्रत्याशियों ने प्रचार के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया. शुक्रवार को चुनाव प्रचार थम जाने के बाद प्रत्याशी फोन और सोशल मीडिया के जरिए मतदाताओं से संपर्क में जुटे थे.

Train Travel Guidelines: कोरोना काल में कर रहें हैं ट्रेन में ट्रेवल तो इन नियम का करना होगा पालन

MP 6 year old girl raped : पोते को 20 रुपए का चॅाकलेट देकर दादा ने किया अपनी 6 साल की पोती का बलात्कार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर