नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लालू यादव के साथ गले मिलने पर सफाई दी. उन्होंने कहा, ”मैंने लालू को गले नहीं लगया था, वे खुद जबरन मुझसे गले मिले थे. मैंने कोई लालू के साथ गठबंधन नहीं किया है.” 
 
केजरीवाल ने कहा, ”मैं बिहार गया था. नीतीश कुमार जी अच्छे आदमी हैं. जनता ने ही मुझे उनके अच्छे कामों के बारे में बताया है.” उन्होंने कहा कि जितना काम उनकी सरकार ने किया, उतना किसी सरकार ने नहीं किया. हमने वहां बीजेपी के खिलाफ काम किया और महागठबंधन का समर्थन किया. नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण में मैं मंच पर था. लालू ने ही जबर्दस्ती मेरा हाथ पकड़कर उठा दिया और मुझे जबरन गले भी लगाया.’ 
 
‘वंशवाद के खिलाफ हूं’
केजरीवाल ने लालू के वंशवाद पर कहा कि मैं लालू के दोनो बेटों के मंत्री बनने के भी खिलाफ हूं. पार्टी और सरकार में वंशवाद के हमेशा से खिलाफ हूं. मैं हमेशा लालू के भ्रष्ट रिकॉर्ड के खिलाफ रहा हूं और उनका विरोध करता रहूंगा.
 
‘भ्रष्टाचार के हमेशा से खिलाफ’
केजरीवाल ने भ्रष्टाचार विरोधी पर सफाई देते हुए कहा कि मैं भ्रष्टाचार का विरोध करता हूं. कल भी मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ था और आगे भी भ्रष्टाचार के खिलाफ रहूंगा. केजरीवाल ने कहा, ”आजतक भारत के इतिहास में ऐसा नहीं हुआ कि किसी पार्टी ने खुद अपनी पार्टी के मंत्री को भ्रष्टाचार के आरोप में पार्टी से निकाल दिया हो. हमारे ऐसे कदम उठाने से राजनीतिक शुचिता के मामले में लोगों के बीच एक मजबूत संदेश गया है.”
 
IANS

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App