नई दिल्ली. 7th Pay Commission News: सातवें वेतन आयोग के तहत केंद्र सरकार के लाखों कर्मचारियों को नए साल यानी 2020 में बहुत बड़ी खुशखबरी मिलने की संभावना है. विभिन्न कर्मचारी संघों की मांग पर केंद्र सरकार अगले साल कुछ फैसला ले सकती है और माना जा रहा है कि केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते यानी डीए में 4 फीसदी तक की बढ़ोतरी की जा सकती है. काफी संभावना है कि नए साल के मौके पर कैबिनेट बैठक के दौरान केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार 7वें वेतन आयोग के तहत डीए में 4 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर केंद्रीय कर्मचारियों को न्यू ईयर गिफ्ट दे सकती है.

  1. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार अगर केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी करने की घोषणा करती है तो केंद्र सरकार के लाखों कर्मचारियों की सैलरी में हर महीने 700 से लेकर 10,000 रुपये तक की बढ़ोतरी हो जाएगी.
  2. यहां बता दूं कि नरेंद्र मोदी सरकार ने बीते दिनों जुलाई से अक्टूबर तक का इनफ्लेशन डेटा जारी किया था, जिसमें पता चला था कि महंगाई की वजह से लोगों के खरीदने की क्षमता प्रभावित हुई है. ऐसे में सरकार भी इस कोशिश में है कि सातवें वेतन आयोग के तहत बढ़ती महंगाई दर की मार को महंगाई भत्ते से कम किया जाए.
  3. मोदी सरकार ने 7वें वेतन आयोग के तहत बीते साल दीवाली से पहले लाखों केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 5 फीसदी बढ़ोतरी कर 12 से 17 फीसदी कर दिया था. महंगाई भत्ते यानी डीए में बढ़ोतरी से लाखों केंद्रीय कर्मचारियों की चांदी हो गई थी. बाद में कई राज्यों ने भी अपने कर्मचारियों के डीए में बढ़ोतरी की घोषणा की थी.
  4. उल्लेखनीय है कि लाखों केंद्रीय कर्मचारी लंबे समय से बेसिक सैलरी में बढ़ोतरी की मांग कर रहे हैं, लेकिन मोदी सरकार ने इसको लेकर कोई फैसला नहीं किया है. केंद्रीय कर्मचारियों की मांद है कि उनकी बेसिक सैलरी 18,000 से बढ़ाकर 27,000 की जाए. अब आने वाले समय में देखना होगा कि मोदी सरकार इस मांग पर क्या करती है.

Jamia University Students Protest Over CAB: नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में सड़कों पर जामिया यूनिवर्सिटी के छात्र, दिल्ली पुलिस का लाठीचार्ज, छोड़े आंसू गैस के गोले

Rahul Gandhi Rape in India Controversy: रेप इन इंडिया तंज से गरमाई राजनीति, संसद में जोरदार हंगामा, बीजेपी ने की राहुल गांधी से माफी की मांग, कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष का इनकार

Petition Against Citizenship Amendment Act In SC: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पीस पार्टी, जन अधिकार पार्टी और रिहाई मंच ने की याचिका दाखिल, बताया संविधान के खिलाफ