7th Pay Commission: नरेंद्र मोदी सरकार ने सातवें वेतनमान के तहत केंद्रीय कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर की समीक्षा की है. बता दें कि वर्तमान में केंद्रीय कर्मचारियों को 30 जनवरी 2018 को लागू किए गए सातवें वेतनमान के तहत सैलरी मिलती है. मालूम हो कि हर दशक में भारत सरकार केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी स्ट्रक्चर की समीक्षा करती है. इस समीक्षा प्रक्रिया में सिविल कर्मचारी और मिलिट्री कर्मचारी दोनों शामिल होते हैं. अब जब नरेंद्र मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर की समीक्षा कर दी है. तो नए सैलरी स्ट्रक्चर के मुताबिक केंद्रीय कर्मचारियों को लाखों की सैलरी मिलेगी.

सातवें वेतन आयोग के मुताबिक पेंशनभोगियों को अपनी अंतिम आय का 23.63 फीसदी पेंशन मिलता है. वहीं मौजूदा वक्त में जॉब कर रहे केंद्रीय कर्मचारियों को रिटायर्ड होने पर अपनी अंतिम आय का 16 फीसदी पेंशन मिलेगा. इसके साथ ही नरेंद्र मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के भत्ते में 63 फीसदी का इजाफा किया है. ताजा अपडेट के मुताबिक जल्द ही केंद्रीय कर्मचरियों के डियरेंस अलाउंस में सातवें वेतनमान के तहत 3 फीसदी का इजाफा किया गया है. रेल मंत्रालय ने भी भारतीय रेलवे कर्मचारियों की सैलरी स्ट्रक्चर की समीक्षा के लिए एक कमेटी का गठन किया है.

सातवें वेतनमान के तहत की गई सैलरी स्ट्रक्चर की समीक्षा की कुछ महत्वपूर्ण बातें

सातवें वेतन आयोग द्वारा निर्धारित किए गया नया स्ट्रक्चर सभी केंद्रीय कर्मचारियों पर लागू होगा.

केंद्रीय कर्मचारियों को एंट्री लेवल पर कम से कम 7000-18000 प्रति महीने का वेतन मिलता है. वहीं क्लास I ऑफिसर को न्यूनतम 56100 प्रति महीने की सैलरी मिलती है.

सातवें वेतनमान के तहत केंद्रीय कर्माचारियों की सैलरी में 3 फीसदी का इजाफा किया गया है.

मिलिट्री सर्विस पे सभी प्रकार के सैन्य कर्मचारियों को मिलेगा.

पे स्ट्रक्चर की समीक्षा के बाद आर्म्ड फोर्स के कर्मचारियों को मिलेगी इतनी सैलरी

आर्मी और डिफेंस कर्मचारियों को नये पे स्ट्रक्चर के मुताबिक प्रति महीने 15600-67000 की सैलरी मिलेगी.

बीएसएफ के कर्मचारियों को प्रति महीने 15600-100100 की सैलरी मिलेगी.

भारतीय नौसेना के कर्मचारियों के नये पे स्ट्रक्चर के मुताबिक प्रति महीने 15600-90000 की सैलरी मिलेगी.

नये पे स्ट्रक्चर के मुताबिक प्रोफेसरों को मिलेगी इतनी सैलरी

प्रोफेसर के पद पर कार्य कर रहे लोगों को एंट्री लेवल पर सातवें वेतनमान के लेवल 10-15 के तहत 21600-67000 प्रति महीने की सैलरी मिलेगी.

असिस्टेंट प्रोफेसर को प्रति महीने 46800-117300 की सैलरी मिलेगी.

एसोसिएट प्रोफेसर को प्रति महीने 100000-200000 की सैलरी मिलेगी.

CBSE Revised 9 to 12 Class Syllabus: कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस में संशोधन की तैयारी कर रहा CBSE !

7th Pay Commission: 7th पे के तहत रेलवे में जॉब पाने का मौका, सैलरी 60 हजार से ज्यादा, जानें आवेदन की अंतिम तारीख

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर