नोएडा. गोमांस की अफवाह के बाद मारे गए अखलाक के परिवारवालों की रक्षा के लिए बिसहड़ा के कई हिंदू परिवार खड़े हो गए हैं. दरअसल, अखलाक की मौत के बाद बेटे ने कहा था कि वह गांव छोड़कर चले जाएंगे. लेकिन अब कई हिन्दू परिवारवालों ने भरोसा दिलाया है कि वे गांव छोड़कर नहीं जाएं. वह पूरे परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेते हैं.
 
सूत्रों के मुताबिक हिंदू परिवार ने अखलाक के परिवार वालो से कहा कि हम सभी आपकी सुरक्षा करेंगे. जो कुछ भी हुआ, वह बहुत गलत हुआ. सांप्रदायिक हिंसा के बाद एक बार फिर ग्रामीणों ने सामुदायिक सौहार्द्र बनाने की पहल शुरू कर दी है.  
 
आपको बता दें कि गौमांस खाने की अफ़वाह के कारण 28 सितंबर को अख़लाक़ की हत्या कर दी गई थी. घटना के बाद इसका पूरी तरह से राजनीतिकरण कर दिया गया जिसके बाद गांव का माहौल बहुत ख़राब हो गया था.
 
बिसहड़ा, चिठहेरा और ऊंचा अमीरपुर गांव में जगह-जगह बुजुर्गों ने पंचायते की और सभी से शान्ति बनाए रखने और कानून को अपने हाथ में न लेने की अपील की.